अहमदाबाद की दीवारें

हथियार बेचने आ रहे हिरोशिमा के क़ातिलों की संतान के स्वागत में वो कौन लाखों लोग अहमदाबाद की सड़कों पर होंगे ?

दीवार के इस पार या उस पार वाले
नरोदा पाटिया वाले या गुलबर्गा वाले।

डिटेंशन कैंप सरीखी बस्तियों वाले
या खास तरह के कपड़े पहनने वाले।।

वो जो भी होंगे पर किसान तो नहीं होंगे
तो क्या वो फिर जियो के कामगार होंगे।

नरसंहारक होंगे या दुष्प्रचारक होंगे
तड़ीपार होंगे या फिर चिड़ीमार होंगे।।

हो सकता है वो फ़क़ीरी सरदार हों
दस लाख के सूट वाले असरदार हों।

लुटते पिटते दलितों के रिश्तेदार हों
या वो नागपुर से आए चौकीदार हों।।

आओ ऐसी बाँटने वाली दीवारें गिरा दें
हर कोने में शाहीनबाग आबाद करा दें।

सब मक्कार तानाशाहों को झुका दें
नागरिकता के मायने इन्हें भी बता दें।।
-यूसुफ़ किरमानी


Ahamadaabaad kee Deevaaren

hathiyaar bechane aa rahe hiroshima ke qaatilon kee santaan ke svaagat mein vo kaun laakhon log ahamadaabaad kee sadakon par honge ?

 deevaar ke is paar ya us paar vaale
naroda paatiya vaale ya gulabarga vaale.

 ditenshan kaimp sareekhee bastiyon vaale
ya khaas tarah ke kapade pahanane vaale..

 vo jo bhee honge par kisaan to nahin honge
 to kya vo phir jiyo ke kaamagaar honge.

 narasanhaarak honge ya dushprachaarak honge
tadeepaar honge ya phir chideemaar honge..

ho sakata hai vo faqeeree saradaar hon
das laakh ke soot vaale asaradaar hon

lutate pitate daliton ke rishtedaar hon
ya vo naagapur se aae chaukeedaar hon..

 aao aisee baantane vaalee deevaaren gira den
har kone mein shaaheenabaag aabaad kara den.

 sab makkaar taanaashaahon ko jhuka den
naagarikata ke maayane inhen bhee bata den.

 -Yusuf kirmani













Comments

Popular posts from this blog

आमिर खान और सत्यमेव जयते…क्या सच की जीत होगी

क्या मुसलमानों का हाल यहूदियों जैसा होगा ...विदेशी पत्रकार का आकलन

हमारा तेल खरीदो, हमारा हथियार खरीदो...फिर चाहे जिसको मारो-पीटो