बस फेंकते रहिए....

हमें लंबी फेंकने की आदत है...
कल जब हम वहां लंबी लंबी फेंक रहे थे तो कहीं सीमा पर जवान शहीद हो रहे थे...

और ड्रैगन ज़ोरदार नगाड़ा बजा रहा था, वह बार बार बजाता है 
लेकिन उस नगाड़े की आवाज़ मेरे फेंकने में खो जाती है

हम फेंकते हैं इसलिए कि फ़र्ज़ी राष्ट्रवाद में और इज़ाफ़ा हो
और सिर्फ़ हमीं बेशर्मी से काट सकें चुनाव में इसकी फसल

सच है, लोग नफ़रतों के संदेश तेज़ी से ग्रहण करते हैं
यही है मेरी लंबी फेंकने की सफलता का राज भी

अब तो छोटे छोटे प्यादे भी ख़ूब अच्छा फेंक लेते हैं
आइए हम सब फेंकने को अपना जीवन दर्शन बनाएं 
 X               X                X                        X
जब कभी हो रोज़गार की ज़रूरत तो बस फेंकने लगिए
अस्पताल में न मिले दवा तो फेंकने की तावीज़ पहनिए

एक छोटे प्यादे ने हवाई जहाज़ में हवाई चप्पल पर फेंका
उससे छोटे ने ट्रेनों के फेलेक्सी किराये पर भी तो फेंका 

झोले में गर न आ सकें गेहूं चावल तो धूल चाट लो 
सब्ज़ी मंडी में महँगा लगे आलू तो धूल फांक लो


Comments

Popular posts from this blog

आमिर खान और सत्यमेव जयते…क्या सच की जीत होगी

क्या मुसलमानों का हाल यहूदियों जैसा होगा ...विदेशी पत्रकार का आकलन

हमारा तेल खरीदो, हमारा हथियार खरीदो...फिर चाहे जिसको मारो-पीटो