Sunday, August 16, 2009

अमेरिकी दादागीरी और हम बेचारे भारतीय

अमेरिका के नेवॉर्क एयरपोर्ट (Newark Airport) पर लोकप्रिय भारतीय फिल्म अभिनेता शाहरूख खान के साथ जो कुछ हुआ वह हम भारतीयों के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने के लिए काफी है। वह नेवॉर्क जाने वाली ही अमेरिकन एयरलाइंस की फ्लाइट थी जिसके मामूली अफसरों ने पूर्व प्रेजीडेंट एपीजे अब्दुल कलाम की जमा तलाशी ली थी और उलुलजुलूल सवाल पूछे थे। लेकिन शाहरुख के साथ यह घटना अमेरिका में हुई। कलाम की घटना का पता तभी चला जब कई महीने बाद कलाम ने खुद बताया। उस घटना के बाद एयरलाइंस ने माफी मांगी और भारत सरकार ने भी कड़ा विरोध जताया लेकिन अभी तक शाहरूख के मामले में ऐसा नहीं हुआ।
शाहरूख इस देश के युवाओं के आइकन (Icon) हैं और यह बात अमेरिकी सरकार को भी मालूम है। वहां के राजदूत ने अपनी प्रतिक्रिया में यह बात कही भी है लेकिन उसकी चालाकी देखिए कि उसने इस घटना पर खेद तक नहीं जताया।
अपने आपको दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश बताने वाले अमेरिका में नस्लभेद (Racism) के सैकड़ों मामले हो चुके हैं। चाहे वहां के गोरी चमड़ी वालों का अब्राहम लिंकन (Abram Lincoln )के साथ किया गया बर्ताव या फिर मार्टिन लूथर किंग (Martin Luther King)और पॉप स्टार माइकल जैक्सन (POP STAR MJ) के साथ किया गया नस्लीय भेदभाव हो। एमजे के साथ तो भेदभाव इसलिए किया गया कि उन्होंने नस्लीय भेदभाव के कारण इस्लाम धर्म (Islam) स्वीकार कर लिया था। खास बात यह है कि माइकल जैक्सन ने 9/11 की घटना से पहले ही इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया था और बाकायदा कुरान पढ़ने लगे थे। मार्टिन लूथर किंग ने आज से सौ साल पहले नस्लीय भेदभाव के खिलाफ – हम होंगे कामयाब एक दिन – जैसा लोकप्रिय गीत लिखा था।
अमेरिकी अधिकारियों को दरअसल मुस्लिम नामों से चिढ़ने का फोबिया (Fobia)हो गया है। अमेरिका में जिन लोगों ने आतंकवादी घटनाओं (Terrorist Attack) को जन्म दिया उसके लिए वहीं की संस्कृति (Culture) में पले-बढ़े मुस्लिम युवक जिम्मेदार थे। उन्हें कहीं से भेजा नहीं गया। वे लोग वहां बाकायदा या तो पढ़ाई कर रहे थे या फिर नौकरी कर रहे थे लेकिन वे सबके सब ओसामा बिन लादेन की बातों से प्रेरित थे और उसके आतंकवादी नेटवर्क में शामिल हो गए। लेकिन इस आधार पर पूरी दुनिया के मुसलमानों को आतंकवादी मान लेना कहां का न्याय है।
कलाम और शाहरुख के साथ किया गया अमेरिकी भेदभाव दरअसल एक छिपा हुआ संदेश है कि देखो जब हम इनको कुछ नहीं समझते तो बाकी मुसलमान तो हमारे लिए चींटी और कीड़े-मकोड़ों की तरह हैं। इराक में इस बिग डैडी अमेरिका (Big Dady America) ने यही किया। उसने उस देश पर यह कहकर हमला किया कि उसके पास केमिकल वेपन (Chemical Weapon) हैं जिससे बड़े पैमाने पर जनसंहार (Genoside) का खतरा है। अन्य देश देखते रहे कि किस तरह अमेरिका इराक पर बम बरसाता रहा। इसके बाद अमेरिकन फौजों ने इराक के चप्पे-चप्पे में केमिकल वेपन तलाशना शुरू किया। अंत में ऐसा काम करने वाली अमेरिका की पिट्ठू इंटरनेशनल एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (IAEA) को कहना पड़ा कि इराक में हमें केमिकल वेपन कहीं भी नहीं मिले। इसके बाद अमेरिका ने सरेआम सद्दाम हुसैन को फांसी लगवाई। किसी भी देश ने इस पर चूं तक नहीं की। अब अमेरिका और उसका पिट्ठू देश इस्राइल लगातार ईरान को धमकी दे रहे हैं कि उसके पास परमाणु हथियार है और ईरान जैसे देश का विनाश दुनिया में शांति के लिए जरूरी है। अब भी तमाम अमेरिका के गुलाम देश उसकी ओर हसरत भरी नजरों से देख रहे हैं कि जहांपनाह कब हमला करेंगे और हम लोग टीवी पर यह रोमांचपूर्ण मुकाबला Live देखेंगे। ईरान की गलती क्या है- ईरान अपने लिए अपनी सुरक्षा के लिए परमाणु हथियार बना रहा है। आज तक इस बात की मिसाल नहीं मिलती कि ईरान ने कभी किसी देश पर हमला किया हो। बल्कि ईराक और सद्दाम हुसैन जब अमेरिका के दबाव में थे तो अमेरिका के कहने पर ही इराक ने ईरान और कुवैत (August 1990) पर हमला किया था। जिसमें मुंह की खाने के बाद इराक को पीछे हटना पड़ा था। (Saddam Hussein attacked Iran on 22 September 1980. This war ended in August 1988)
बराक हुसैन ओबामा ने जब अमेरिकी सत्ता की बागडोर संभाली थी तो अपने संबोधन में खासतौर से मसुलमानों के मनोभावों का जिक्र किया था कि वे अमेरिका से नफरत करते हैं। मैं चाहता हूं कि ये दूरियां अब मिटनी चाहिए। अमेरिका मुसलमानों के खिलाफ नहीं है। इसके कुछ महीने बाद ओबामा ने खास तौर से मुसलमानों को अस्ससलामअलैकुम कहा और सहयोग मांगा। उन्होंने साफ तौर पर सहयोग मांगा। लेकिन ओबामा शायद यह भूल गए कि जिस शाहरूख के साथ मुसलमान होने के नाते यह गिरी हुई हरकत की गई वह सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि अमेरिका में बसे समस्त एशियाई लोगों का चहेता है। उसके फैन पाकिस्तान से लेकर कनाडा तक में है। अब इस घटना के बाद आम मुसलमानों का दिल अमेरिका के प्रति नफरत से और नहीं भरेगा तो क्या होगा। मुसलमानों के दिलों में अमेरिका के खिलाफ नफरत के बीज और मजबूत होंगे।
याद कीजिए एनडीए शासनकाल के दौरान अमेरिका जाने पर तत्कालीन गृह मंत्री एल. के. आडवाणी और जॉर्ज फर्नांडीज तक की तलाशी हुई थी। उस समय एनडीए सरकार ने इस घटना को दबाना चाहा था और कम करके आंका था। उसके बाद इस तरह की घटनाएं बढ़ती गईं।
करण जौहर की प्रतिक्रिया के मायने
शाहरुख के मामले में करण जौहर की प्रतिक्रिया सबसे अलग हटकर है। उन्होंने कहा कि यह ऐसे ही है कि जैसे लोकप्रिय हॉलिवुड अभिनेता ब्रैड पिट (Brad Pitt) भारत आएं और यहां उनकी जमा तलाशी हो जाए।
लेकिन आपको याद होगा कि ब्रैड पिट और एंजलीना जौली (Angelina Jolie) भारत शूटिंग के लिए तो हम भारतीय किस तरह उनके आगे नतमस्तक हो गए। यहां के मीडिया के लिए वह पहली खबर बन गए। दोनों अमेरिका जाते वक्त भारतीय लोगों का शुक्रिया कहने से नहीं भूले कि उन्होंने इतना सम्मान दिया जिसके वह हकदार नहीं थे।
मैं आप लोगों से या भारत सरकार से यह मांग नहीं कर रहा हूं कि आप भी अमेरिकी एक्टरों या वहां के नेताओं की जमा तलाशी पर उतर आएं बल्कि यह कहना चाहता हूं कि जरा अमेरिकी दादागीरी पर सोचिए। तमाम देश या उन मुल्कों के लोग कब तक अमेरिकी दादागीरी को बर्दाश्त करते रहेंगे। अभी जिस मंदी के दौर से हम लोग गुजर रहे हैं वह भी अमेरिकी देन है। वह दिन दूर नहीं जब आप खाना खाएंगे तो उसका फैसला अमेरिका करेगा। माफ कीजिएगा अब किसी ईस्ट इंडिया कंपनी (East India Company) को भारतीयों को गुलाम बनाने के लिए भारत आने की जरूरत नहीं है। वह न्यू यॉर्क में बैठकर यह काम कर सकती है।

10 comments:

पी.सी.गोदियाल said...

श्रीमान, मेरे सब्दो को अन्यथा मत लीजिएगा लेकिन आप को बता दू की अपने देश और अपने नागरिको की सुरक्षा किसी भी देश का प्रथम कर्तव्य है ! अमेरिका भारत नहीं है जहाँ के लोग सिर्फ बचकानी हरकते करना, फालतू की भोहें सिकोड़ना और मुह निपोड़ना जानते है बस और कुछ नहीं ! अगर वह ऐसा कर अपने देश को सुरक्षित बना रहा है तो इसमें बुराई क्या है ?

शाहरुख खान इस देश के युवाओ का आइकोन हो सकते है मगर अमेरिका के नहीं ! उनके लिए अपने देश की सुरक्षा सर्वप्रथम है ! वे हमारे देश के नेतावो की तरह नहीं है जो मुंबई हमले के बाद बोले की ऐसी चोटी मोटी घटनाएं तो होती रहती है !
हाँ सहरुख खान स्टार जरूर बन गए मगर उन्होंने दिलीप कुमार से इतना भी नहीं सीखा !

Aadarsh Rathore said...

ऊपर वाले टिप्पणीकार की बातों पर सुरक्षा के मामले पर सहमत हूं।
दूसरा ये कि हो सकता है कि शाहरुख खान ने अपनी अगली फिल्म माई नेम इज खान के लिए पब्लिसिटी स्टंट किया हो। हो सकता है कि उनका बैग जो कि लेट पहुंच रहा हो वो उसका इंतज़ार कर रहे हों। या फिर उन्होंने अपने प्रशंसकों को लेट आने के लिए बहाना किया हो।
लेकिन अगर महज 'खान' होने वजह से अलग से दुर्व्यवहार किया जाना कदापि उचित नहीं। ऐसा क्यों हुआ ये हम सभी जानते हैं। लेकिन हमें चाहिए कि ऐसा न हो, इसके लिए हम कुछ करें। इस पर हमें चर्चा कर एक हल निकालना चाहिए।

ab inconvinienti said...

सब माय नेम इज़ खान की पब्लिसिटी के लिए है. शाहरुख़ साल में दसियों बार अमेरिका जाते रहते हैं, पर फिल्म की रिलीज़ से ठीक पहले वो भी पन्द्रह अगस्त को यह न्यूज़ ब्रेक करने का क्या मतलब है? क्या उन्हें पहले नहीं रोका गया? क्यों किसी भारतीय सेलिब्रिटी, नेता या अधिकारी को दुसरे देशों के सुरक्षा मानकों से ऊपर रखा जाना चाहिए? जब सब नागरिक सामान हैं तो किसी को सुरक्षा जाँच में छूट क्यों? क्या सामाजिक ओहदे में ऊँचे लोग प्रथम श्रेणी के नागरिक हैं, और बाकी द्वितीय या तृतीय श्रेणी के? अमेरिका में भी टॉम क्रूज़, ब्रेड पिट और ब्रूस विलिस जैसे सुपरस्टारों को भी सुरक्षा जाँच का सामना करना पड़ता है, फिर क्यों वहां भारतीय अभिनेताओं के लिए अलग मानक हों?

अनुनाद सिंह said...

भैया ये भारत के 'इकन' नहीं हैं; इनके लिये क्यों आंसू बहाये जा रहे हो? सुना नहीं इन्होने तुम्हारे पैसे लूट के लन्दन में बंगला लिया है? प्यारे भारतभक्तों को हो रहे कष्टों की चिन्ता करो। ये तो 'फेंस-सिटर' हैं; कब दूसरी तरफ निकल जांय पता नहीं। बाद में हाथ ही मलते रहना।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

Brad पिट मशहूर अभिनेता और एंजलिना जोली अब अगली बारी भारत आयें तब उनके सामान की जांच भी की जाए
और अमरीका अपनी आतंरिक सुरक्षा को सब से ऊपर रखता है उसी का उदाहरण , भारत भी करे ---
दुबई , शारजाह जानेवाले हरा यात्री की बैग से , इस्लाम के अलावा किसी भी धर्म पर आधारित चीज वस्तुएं , निकाल कर
फेंक दीं जातीं हैं , वह सुरक्षा नहीं धार्मिक वर्चस्व दृढ रखने का रवैया भी भारत अपना ले तब और भी बढिया होगा क्यूं ?

- लावण्या

शरद कोकास said...

इन सारी बातों में हमे धर्म से ऊपर उठकर सोचना होगा .कल को यही बात किसी के साथ भी हो सकती है .तब यह सारी बाते निरर्थक हो जायेंगी . इस विस्व चौधरी की दादागिरी तो है इस बात पर इससे फर्क नही पड़ता कि कोई भी इसका मुखिया बने

om said...

जो लोग अमेरिका में शाहरुख के साथ हुए दुर्व्यवहार से खुश हैं या अमेरिका का विरोध किए जाने के पक्षधर नहीं हैं वे शायद अंध देशभक्ति के शिकार हैं। शाहरुख लोकप्रियता की जिन ऊंचाइयों पर हैं उन्हें इस तरह के स्टंट की जरूरत नहीं है। वह कोई ऐरे-गैरे स्टार नहीं हैं कि अपनी एक फिल्म के लिए इस तरह का नाटक रचें। कारण यह है कि हम लोगों ने अंध देशभक्ति का चश्मा पहन लिया है और हर चीज को उसी दृष्टिकोण से देखने की आदत डाल ली है। आप बेशक अपने देश की सुरक्षा करिए लेकिन अगर आप यह नहीं जानते कि भारत का लोकप्रिय फिल्म स्टार कौन है या फलां आदमी भारत सरकार में मंत्री है या नहीं तो आपको देश चलाने का हक नहीं है। अमेरिका के पास एफबीआई और सीआईए जैसी जासूसी संस्थाएं हैं क्या उनके पास इस तरह की जानकारी नहीं होती है। होती है लेकिन गोरी चमड़ी वाले गरीब देशों के लोगों को उसी दृष्टिकोण से देखते हैं। सुरक्षा के नाम पर वे शाहरुख तो क्या मनमोहन सिंह और आडवाणी की भी तलाशी ले सकते हैं और गोदियाल, आदर्श राठौर, एबी और अनुनाद सिंह जैसे लोग उनकी वाहवाह करने से पीछे नहीं हटेंगे। जय हो प्रभु तुम्हारी महिमा की - महान देश के गुलाम मानसिकता के निवासी।

Suresh Chiplunkar said...

ओम भाई, एक "संकीर्ण" टिप्पणी मेरी भी लीजिये- :) आप सीआईए वगैरह की बात छोड़ दीजिये, क्योंकि उन्हें तो यह तक पता नहीं था कि वाजपेयी सरकार पोखरण में विस्फ़ोट करने वाली है, फ़िर काहे के जासूस?
दूसरी बात (यानी संकीर्ण वाली) - शाहरुख देश के आइकन नहीं हैं, सिर्फ़ एक सेलेब्रिटी हैं और वह भी मीडिया के बनाये हुए…। इसी मीडिया ने नरेन्द्र मोदी को वीज़ा न मिलने पर जश्न मनाया था। तीन-तीन बार जनता द्वारा चुना हुआ मुख्यमंत्री अधिक बड़ा है या एक भाण्ड-नचैया?
मीडिया पक्षपाती है, यह साबित करने में तो हम लगे ही हैं, यह भी एक उदाहरण है, सैकड़ों उदाहरणों में से, कि एक नचैये को मीडिया इतना भाव दे रहा है, जबकि कलाम साहब की बात संसद में उठी थी तब भाजपा को उपदेश दिया गया था कि मामले को अधिक तूल देने की आवश्यकता नहीं है… ये सब क्या है?

om said...

सुरेश भाई, आप ब्लॉग जगत में अपनी संकीर्ण और अति संवेदनशील टिप्पणियों के लिए मशहूर हैं। मुझे इस पर कुछ नहीं कहना है। लेकिन शायद आप अल्पज्ञानी हैं या फिर याद नहीं कि कलाम का मामला संसद में नहीं उठा। स्वयं कलाम ने बताया था। उस समय संसद चल रही थी और वहां भी इस पर होहल्ला हुआ था।
मीडिया के बारे में आप जानते ही हैं। मोदी को वीजा न मिलने पर उसकी भी निंदा की गई थी और भारत ने उसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया था। यह गलत भी था कि किसी राज्य के चुने हुए मुख्यमंत्री को वीजा नहीं दिया गया।
लेकिन बात शाहरुख खान की हो रही है। आपने जिस शब्दावली का प्रयोग किया है वह आपकी मानसिकता का परिचायक है। कभी विदेशों में इस सौ प्रतिशत भारतीय अभिनेता के प्रशंसकों की भीड़ तो देखिए। आप अंध देशभक्ति से ऊपर उठिए। अब धर्म, सीमाएं और राष्ट्रवाद जैसे शब्दों से मुक्ति पाने का समय है। दुनिया सिकुड़ चुकी है। आप वहीं के वहीं हैं। कल को कोई अमिताभ बच्चन या सचिन तेंदुलकर के साथ ऐसा व्यवहार करेगा तो क्या तभी आपका खून खौलेगा। मेरे मित्र सोचो जरा सोचो।

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

यह शाहरुख़ है कौन, क्या गाँधी जी के उत्तराधिकारी है .