Posts

Showing posts from August, 2009

न वो गुरुजन न वो चेले...गलत

रोजाना आपका सामना टीवी से लेकर अखबार तक ऐसी खबरों से पड़ता होगा जो आपको विक्षोभ से भर देती होंगी। लेकिन इसी दौरान कुछ खबरें ऐसी भी आती हैं कि जिनसे आपको ऊर्जा मिलती है और आप कहते उठते हैं कि दुनिया में अच्छाई अभी बाकी है। ऐसी ही दो खबरों के हवाले से अपनी बात कहना चाहता हूं।

दोनों ही खबरें बुधवार बहुत कम जगह में अंग्रेजी अखबार द हिंदुस्तान टाइम्स (26 अगस्त 2009) में जगह पा सकी हैं। एक खबर दक्षिण भारत के शहर मद्रास (चेन्नै) से है। नामक्कल जिले के एक गांव में तमिल भाषा (Tamil Language) के विद्वान (Scholar)और रिटायर्ड टीचर एस. वी. वेंकटरमण को उनके चेलों ने इसी 5 सितंबर (2009) को गुरु दक्षिणा में एक अनोखा तोहफा (Unique Gift) देने का निर्णय लिया है। यह तोहफा है एक दो मंजिला मकान।

खबर में पूरी बात यह कही गई है कि वेंकटरमण रिटायर हो गए और उनको वह इलाका छोड़कर अपने गांव इसलिए वापस जाना पड़ा कि वे मकान का महंगा किराया अदा नहीं कर सकते थे। उनके पास अपना मकान नहीं था। रिटायरमेंट के बाद उनको जो फंड का पैसा मिला वह उन्होंने लड़कियों की शादी में खर्च किया। यह अफसोसनाक सूचना जब उनके पढ़ाए हुए पुराने …

जसवंत और रश्दी की किताब का फर्क

Image
मोहम्मद अली जिन्ना पर जसवंत सिंह की किताब का बीजेपी पर इतना असर होगा, यह खुद जसवंत सिंह को नहीं मालूम था। बीजेपी के इस फैसले से यह तो साफ हो ही गया है कि बीजेपी में किसी तरह का आंतरिक लोकतंत्र (internal democracy) नहीं है। वरना जिस तथ्य को जसवंत ने अपनी किताब में कलमबंद किया, उन बातों को बतौर बीजेपी अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी कई साल पहले कह चुके थे। फिर अब क्या हुआ।
जाने-माने पत्रकार वीर संघवी ने आज हिंदुस्तान टाइम्स में इस विषय पर काफी विस्तार से लिखा है। यहां मैं अपनी बात न रखकर उनके हवाले से कुछ तथ्य रखना चाहता हूं। वीर संघवी ने लिखा है कि जसवंत सिंह ने जिन्ना से जुड़े चैप्टर आडवाणी के पास बहुत पहले देखने के लिए भेजे थे। आडवाणी ने उसे पढ़ा था और उस पर मुहर लगा दी थी। आडवाणी और पूरी बीजेपी को मालूम था कि जसवंत सिंह की किताब भारत-पाकिस्तान बंटवारे जैसे मुद्दे पर आ रही है। ऐसा नहीं है कि यह किताब अचानक आई और बीजेपी नेता हतप्रभ रह गए। शिमला में चल रही चिंतन बैठक से पहले जसवंत ने आडवाणी से पूछा भी था कि क्या वे शिमला बैठक (BJP Shimla Meet ) में शामिल हों या फिर किनारा कर जाएं। आडवाणी ने उन…

जिन्ना का जिन्न

Image
जिन्ना नामक जिन्न फिर बाहर निकल आया है। इस बार न तो संघ परिवार (RSS Family) में और न ही बीजेपी में वैसी बेचैनी दिखी जैसी लालकृष्ण आडवाणी की जिन्ना पर टिप्पणी के समय दिखी थी। बीजेपी में हैसियत के नेता माने जाने वाले और कभी विदेश मंत्री रह चुके जसवंत सिंह ने लगभग वही बातें दोहराईं जो आडवाणी ने पाकिस्तान में जाकर कहीं थीं और भारत वापस आते ही संघ परिवार ने उनकी छीछालेदर में कोई कमी नहीं छोड़ी। आखिर अब ऐसा क्या हुआ कि संघ परिवार इस पर प्रतिक्रिया देने तक को तैयार नहीं है।
मुझे तो यही लगता है कि जरूर इसके पीछे जरूर कोई निहितार्थ (Reasons) है। निहितार्थ शब्द का इस्तेमाल बीजेपी और संघ के लोग काफी करते हैं इसलिए मैंने भी उसी शब्द का इस्तेमाल किया है। अब विश्लेषण करते हैं कि आखिर वे निहितार्थ क्या हो सकते हैं। उमा भारती, मदनलाल खुराना, कल्याण सिंह, गोविंदाचार्य से लेकर वसंधुरा राजे सिंधिया ने बीजेपी को उसकी औकात बताने में कोई कसर नहीं छोड़ी इसलिए इस पर अनावश्यक चर्चा कर संघ और बीजेपी बाकी राजनीतिक दलों को मौका नहीं देना चाहती है कि वे बवाल को आगे बढ़ाएं। लगभग हर राज्य में इस समय बीजेपी संगठन में…

अमेरिका परस्ती मुबारक हो

शाहरुख खान के साथ अमेरिका में हुए बर्ताव के बारे में मेरी नीचे वाली पोस्ट पर कुछ मित्रों ने तीखी टिप्पणियां दीं और कुछ ने शालीनता से परे जाकर शब्दों का इस्तेमाल किया है। बहरहाल, इस विषय में हर टिप्पणीकार को जवाब देने की बजाय सिर्फ यही कहना चाहता हूं कि भारत में खालिस्तान आंदोलन से लेकर जम्मू-कश्मीर में अलगाववादियों के आंदोलन और इसमें अगर नक्सलियों की हिंसा को भी जोड़ लें तो अपने यहां अमेरिका में 9/11 के मुकाबले कहीं ज्यादा बेगुनाह लोग मारे जा चुके हैं। इनमें तमाम शहरों में हुए सांप्रदायिक दंगों में मारे गए निर्दोष शामिल नहीं हैं। इनमें सबसे ज्यादा लोग आतंकवादियों के हाथों मारे गए। अमेरिका अपने एयरपोर्टों पर शाहरूख खान, जॉर्ज फर्नांडीज और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के साथ जो हरकत कर चुका है उसे देखते हुए तो भारत को और कड़े कानून बनाने चाहिए थे। लेकिन आतंकवादी फिर भी एक भारतीय विमान का अपहरण कर कंधार ले गए और जसवंत सिंह आतंकवादियों से डील करने वहां गए।
9/11 की घटना के बाद अमेरिका आतंकवाद को कुचलने का स्वयंभू प्रधान हो गया है और हर देश में जांच करने के लिए उसके एजेंट पहुंच जाते ह…

अमेरिकी दादागीरी और हम बेचारे भारतीय

Image
अमेरिका के नेवॉर्क एयरपोर्ट (Newark Airport) पर लोकप्रिय भारतीय फिल्म अभिनेता शाहरूख खान के साथ जो कुछ हुआ वह हम भारतीयों के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने के लिए काफी है। वह नेवॉर्क जाने वाली ही अमेरिकन एयरलाइंस की फ्लाइट थी जिसके मामूली अफसरों ने पूर्व प्रेजीडेंट एपीजे अब्दुल कलाम की जमा तलाशी ली थी और उलुलजुलूल सवाल पूछे थे। लेकिन शाहरुख के साथ यह घटना अमेरिका में हुई। कलाम की घटना का पता तभी चला जब कई महीने बाद कलाम ने खुद बताया। उस घटना के बाद एयरलाइंस ने माफी मांगी और भारत सरकार ने भी कड़ा विरोध जताया लेकिन अभी तक शाहरूख के मामले में ऐसा नहीं हुआ।
शाहरूख इस देश के युवाओं के आइकन (Icon) हैं और यह बात अमेरिकी सरकार को भी मालूम है। वहां के राजदूत ने अपनी प्रतिक्रिया में यह बात कही भी है लेकिन उसकी चालाकी देखिए कि उसने इस घटना पर खेद तक नहीं जताया।
अपने आपको दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश बताने वाले अमेरिका में नस्लभेद (Racism) के सैकड़ों मामले हो चुके हैं। चाहे वहां के गोरी चमड़ी वालों का अब्राहम लिंकन (Abram Lincoln )के साथ किया गया बर्ताव या फिर मार्टिन लूथर किंग (Martin L…

विश्वास का गड़बड़झाला...Never Trust

Image
नेवर ट्रस्ट यानी किसी पर विश्वास मत करो - यह मैं आपसे या किसी से भी नहीं कह रहा हूं। यह Twitter पर सबसे Hot Topic है। जिसे उसने Trending Topic की सूची में सबसे पहले नंबर पर रखा है यानी Tweet करने वाले इस समय सबसे ज्यादा इस शब्द Never Trust का इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर आप Twitter पर जाकर Never Trust पर क्लिक करें तो आपको हैरानी होगी कि लोग किस-किस रूप में इसका इस्तेमाल कर रहे हैं।



इस टॉपिक को देखने के बाद मैं भारत के संदर्भ में सोचने लगा कि हमारे यहां भी तो यह शब्द इस समय हॉट हो गया है। कभी इसका उलट था जब हमें पढ़ाया और सिखाया जाता था कि लोगों पर विश्वास करना तो सीखो। जब तक किसी पर विश्वास करना नहीं सीखोगे तब तक आगे नहीं बढ़ सकते। पिता जी बताया करते थे कि हम लोगों की खेतीबारी और कारोबार सब विश्वास पर टिके हुए हैं। यह विश्वास ही था कि हम तीन भाइयों को अलग-अलग समय पर किसी दूसरे धर्म (हिंदू) वाले पर विश्वास करके पढ़ने के लिए दिल्ली भेज दिया गया। उस विश्वास को आजतक ठेस नहीं पहुंची। हमारे और उन परिवारों के बीच वह ट्रस्ट (विश्वास) आज भी कायम है।


पर, जब से बाजारवाद हावी हुआ है और प्रगति और सफलत…