Sunday, November 30, 2008

मुंबई हमले के लिए अमेरिका जिम्मेदार ?

सुनने में यह जुमला थोड़ा अटपटा लगेगा लेकिन यह जुमला मेरा नहीं है बल्कि अमेरिका में सबसे लोकप्रिय और भारतीय मूल के अध्यात्मिक गुरू दीपक चोपड़ा का है। दीपक चोपड़ा ने कल सीएनएन न्यूज चैनल को दिए गए इंटरव्यू में यह बात कही है। उस इंटरव्यू का विडियो मैं इस ब्लॉग के पाठकों के लिए पेश कर रहा हूं। निवेदन यही है कि पूरा इंटरव्यू कृपया ध्यान से सुनें।
अंग्रेजी में इस इंटरव्यू का मुख्य सार यह है कि जब से अमेरिका ने इराक सहित तमाम मुस्लिम देशों के खिलाफ आतंकवाद के नाम पर हमला बोला है तबसे इस तरह की घटनाएं बढ़ रही हैं। अमेरिका आतंकवाद को दो तरह से फलने फूलने दे रहा है – एक तो वह अप्रत्यक्ष रूप से तमाम आतंकवादी संगठनों की फंडिंग करता है। यह पैसा अमेरिकी डॉलर से पेट्रो डॉलर बनता है और पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सऊदी अरब, इराक, फिलिस्तीन समेत कई देशों में पहुंचता है। दूसरे वह आतंकवाद फैलने से रोकने की आड़ में तमाम मुस्लिम देशों को जिस तरह युद्ध में धकेल दे रहा है, उससे भी आतंकवादियों की फसल तैयार हो रही है। दीपक चोपड़ा का कहना है कि पूरी दुनिया में मुसलमान कुल आबादी का 25 फीसदी हैं, जिस तरह अमेरिका के नेतृत्व में उनको अलग-थलग करने की कार्रवाई चल रही है, उससे आतंकवाद और बढ़ेगा, कम नहीं होगा। दीपक चोपड़ा पाकिस्तान और कश्मीर पर भी बोले हैं, वह आप खुद ही सुनकर जान लें तो बेहतर है। मैं उसे यहां लिखना नहीं चाहता।
दीपक चोपड़ा की इन बातों से आप सहमत हों या न हों लेकिन मैं इतना बता दूं कि अमेरिकी मानस में यह सोच घर करती जा रही है। हाल ही में जब बाराक ओबामा जब अपने प्रचार में जुटे थे तो उन्हें कई कड़वी सच्चाइयों का सामना करना पड़ा था। जिसमें सबसे खास यह था कि अमेरिकी चाहते हैं कि आतंकवाद के खिलाफ युद्ध का जो हौवा अमेरिका यानी जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने खड़ा किया है और जिसकी वजह से आज पूरी दक्षिण पूर्व एशिया में अशांति फैली है, वह नीति वापस ली जानी चाहिए। मुस्लिम देशों के खिलाफ जो घृणा का माहौल फैलाया जा रहा है, वह फौरन बंद किया जाना चाहिए।
अमेरिका की एक प्रतिष्ठा पत्रिका काउंटर पंच में जाने-माने लेखक और राजनीतिक विश्लेषक तारिक अली का एक लेख मुंबई में किए गए हमले पर प्रकाशित हुआ है। उस लेख को मैं यहां आप लोगों के लिए अंग्रेजी में पेश कर रहा हूं। इस लेख में कही गई बातें भी अध्यात्मिक गुरू दीपक चोपड़ा से मिलती हैं। तारिक अली ने यह भी लिखा है कि गुजरात में मोदी की सरकार ने जो कुछ भी किया, उससे भी आतंकवाद की फसल पैदा हो रही है। तमाम दंगों में जो मुस्लिम परिवार प्रभावित हुए हैं, उनके घरों के बच्चे भी आतंकवाद के रास्ते पर कदम रख चुके हैं। तारिक अली की हाल ही में आई पुस्तक द ड्यूल पाकिस्तान काफी चर्चित हो रही है। जिसमें कहा गया है कि अमेरिका का अंधा समर्थन कर पाकिस्तान को क्या कीमत चुकानी पड़ रही है। वहां आतंकवाद की जड़े भारत के मुकाबले कई गुना गहरी हैं और एक दिन वह पाकिस्तान नामक देश को खत्म कर देंगी।
तारिक अली का मुंबई के संदर्भ वाला पूरा लेख तो आप नीचे की पोस्ट में खैर अंग्रेजी में पढ़ ही लेंगे लेकिन यहां मुझे इस्राइल और फिलिस्तीन में चल रहे संघर्ष की याद आती है। फिलिस्तीन में आज हर बच्चा इस्राइल के खिलाफ बंदूक उठाने को तैयार रहता है। यही वजह है कि वहां के चर्चित आतंकवादी संगठन हमास जो कई देशों में प्रतिबंधित है, की सरकार बन गई। यानी वहां के लोगों ने उन्हें चुना। कुल मिलाकर आतंकवाद के कई पहलू हैं और इस समस्या को समग्र रूप से और बहुत संजीदा तरीके से देखना होगा।
पेश है दीपक चोपड़ा का विडियो और तारिक अली का अंग्रेजी में लेख ठीक नीचे वाली पोस्ट में -



Transcript

Chopra: What we have seen in Mumbai has been brewing for a long time, and the war on terrorism and the attack on Iraq compounded the situation. What we call "collateral damage" and going after the wrong people actually turns moderates into extremists, and that inflammation then gets organized and appears as this disaster in Bombay. Now the worst thing that could happen is there's a backlash on the Muslims from the fundamental Hindus in India, which then will perpetuate the problem. Inflammation will create more inflammation.

CNN: Let me jump in on that because you're presuming something very important, which is that it's Muslims who have carried out these attacks and, in some cases, with Washington in their sights.

Chopra: Ultimately the message is always toward Washington because it's also the perception that Washington, in their way, directly or indirectly funds both sides of the war on terror. They fund our side, then our petrol dollars going to Saudi Arabia through Pakistan and ultimately these terrorist groups, which are very organized. You know Jonathan, it takes a lot of money to do this. It takes a lot of organization to do this. Where's the money coming from, you know? The money is coming from the vested interests. I'm not talking about conspiracy theories, but what happens is, our policies, our foreign policies, actually perpetuate this problem. Because, you know, 25% of the world's population is Muslim and they're the fastest growing segment of the population of the world. The more we alienate the Muslim population, the more the moderates are likely to become extremists.


अगर इस विडियो को देखने या सुनने में दिक्कत हो तो इस लिंक पर जाएं -

http://video.google.com/videoplay?docid=-7260048132372687964&hl=en

'If You Go After the Wrong People, You Convert Moderates into Extremists' http://www.alternet.org/audits/108974/mumbai_attacks


Blogging To The Bank 3.0.Click Here!

India's Leaders Need to Look Closer to Home

The Assault on Mumbai
By TARIQ ALI


The terrorist assault on Mumbai’s five-star hotels was well planned, but did not require a great deal of logistic intelligence: all the targets were soft. The aim was to create mayhem by shining the spotlight on India and its problems and in that the terrorists were successful. The identity of the black-hooded group remains a mystery.
Blogging To The Bank 3.0.Click Here!
The Deccan Mujahedeen, which claimed the outrage in an e-mail press release, is certainly a new name probably chosen for this single act. But speculation is rife. A senior Indian naval officer has claimed that the attackers (who arrived in a ship, the M V Alpha) were linked to Somali pirates, implying that this was a revenge attack for the Indian Navy’s successful if bloody action against pirates in the Arabian Gulf that led to heavy casualties some weeks ago.

The Indian Prime Minister, Manmohan Singh, has insisted that the terrorists were based outside the country. The Indian media has echoed this line of argument with Pakistan (via the Lashkar-e-Taiba) and al-Qaeda listed as the usual suspects.

But this is a meditated edifice of official India’s political imagination. Its function is to deny that the terrorists could be a homegrown variety, a product of the radicalization of young Indian Muslims who have finally given up on the indigenous political system. To accept this view would imply that the country’s political physicians need to heal themselves.

Al Qaeda, as the CIA recently made clear, is a group on the decline. It has never come close to repeating anything vaguely resembling the hits of 9/11.

Its principal leader Osama bin Laden may well be dead (he certainly did not make his trademark video intervention in this year’s Presidential election in the United States) and his deputy has fallen back on threats and bravado.

What of Pakistan? The country’s military is heavily involved in actions on its Northwest frontier where the spillage from the Afghan war has destabilized the region. The politicians currently in power are making repeated overtures to India. The Lashkar-e-Taiba, not usually shy of claiming its hits, has strongly denied any involvement with the Mumbai attacks.

Why should it be such a surprise if the perpetrators are themselves Indian Muslims? Its hardly a secret that there has been much anger within the poorest sections of the Muslim community against the systematic discrimination and acts of violence carried out against them of which the 2002 anti-Muslim pogrom in shining Gujarat was only the most blatant and the most investigated episode, supported by the Chief Minister of the State and the local state apparatuses.

Add to this the continuing sore of Kashmir which has for decades been treated as a colony by Indian troops with random arrests, torture and rape of Kashmiris an everyday occurrence. Conditions have been much worse than in Tibet, but have aroused little sympathy in the West where the defense of human rights is heavily instrumentalised.

Indian intelligence outfits are well aware of all this and they should not encourage the fantasies of their political leaders. Its best to come out and accept that there are severe problems inside the country. A billion Indians: 80 percent Hindus and 14 percent Muslims. A very large minority that cannot be ethnically cleansed without provoking a wider conflict.

None of this justifies terrorism, but it should, at the very least, force India’s rulers to direct their gaze on their own country and the conditions that prevail. Economic disparities are profound. The absurd notion that the trickle-down effects of global capitalism would solve most problems can now be seen for what it always was: a fig leaf to conceal new modes of exploitation. (Courtesy: The Counter Punch)

Tariq Ali’s latest book, ‘The Duel: Pakistan on the Flight Path of American Power’ is published by Scribner.


Some other books of this Writer -

Saturday, November 29, 2008

पाकिस्तान पर हमले से कौन रोकता है ?

मुंबई पर हुए सबसे बड़े हमले के बारे में ब्लॉग की दुनिया और मीडिया में बहुत कुछ इन 55 घंटों में लिखा गया। कुछ लोगों ने अखबारों में वह विज्ञापन भी देखा होगा जो मुंबई की इस घटना को भुनाने के लिए बीजेपी ने छपवाया है जिससे कुछ राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव में उसका लाभ लिया जा सके। सांप्रदायिकता फैलाने वाले उस विज्ञापन की एनडीटीवी शुक्रवार को ही काफी लानत-मलामत कर चुका है। यहां हम उसकी चर्चा अब और नहीं करेंगे। मुंबई की घटना को लेकर लोगों का आक्रोश स्वाभाविक है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। देश के एक-एक आदमी की दुआएं सुरक्षा एजेंसियों के साथ थीं लेकिन सबसे दुखद यह रहा कि इसके बावजूद तमाम लोग अपना मानसिक संतुलन खो बैठे। कोई राजनीतिक दल या उसका नेता अगर मानसिक संतुलन ऐसे मुद्दों पर खोता है तो उसका इतना नोटिस नहीं लिया जाता लेकिन अगर पढ़ा-लिखा आम आदमी ब्लॉग्स पर उल्टी – सीधी टिप्पणी करेगा तो उसकी मानसिक स्थिति के बारे में सोचना तो पड़ेगा ही। मुंबई की घटना को लेकर इस ब्लॉग पर और अन्य ब्लॉगों पर की गई टिप्पणियां बताती हैं कि फिजा में कितना जहर घोला जा चुका है।
इसी ब्लॉग पर नीचे वाली पोस्ट में एक टिप्पणीकार ने तो बाकायदा लिख ही दिया कि मुसलमान का नाम आते ही इस ब्लॉग यानी हिंदी वाणी की भाषा सेक्युलर हो जाती है। एक साहब ने लिखा है कि मेरी सोच को लेकर उनको मुझ पर तरस आता है। ब्लॉगर धीरू सिंह ने लिखा है कि अब आर-पार की कार्रवाई लड़ाई होनी चाहिए। कुश जी ने लिखा है कि आतंकवादी को किसने इस रास्ते पर धकेला, यह भाषा मुलम्मा चढ़ी हुई है। कुश जी तो खैर टिप्पणी देने में काफी आगे निकल गए। हमेशा की तरह डॉ. अमर ज्योति ने बहुत गंभीर टिप्पणी दी है कि यह नए विकल्पों को तलाशने का समय है औऱ यह सब कुछ दिन तो चलेगा ही। राज भाटिया जी ने बहुत आहत भरी टिप्पणी दी और शहीदों को श्रद्धांजलि दी। राज जी के विचारों के साथ यह ब्लॉग शुरू से ही सहमत है।
फिजा में जहर घोलने वाली टिप्पणियों को कोई भी ब्लॉगर जब चाहे डिलीट कर सकता है और यह काम मैं भी कर सकता था। लेकिन मैंने ऐसा किया नहीं, क्योंकि मेरा विश्वास अब भी भारतीय लोकतंत्र में बना हुआ है और लोकतंत्र का यह तकाजा है कि सभी की बात सभी तक पहुंचनी चाहिए।
इस ब्लॉग पर मेरे लेख कोई भी फुरसत में पढ़कर निचोड़ निकाल सकता है कि दरअसल मेरी विचारधारा क्या है और किसी भी मुद्दे पर मेरा नजरिया किस तरह का रहता है। तमाम लोगों की नजरों का तारा बनने के लिए मैं यह तो कर नहीं सकता कि किसी समुदाय विशेष को गरियाने लगूं और सभी की वाहवाही लूट लूं। आखिर किसी मुसलमान लेखक या पत्रकार से यह अपेक्षा क्यों की जाती है कि वह अपने समुदाय के लोगों को कोसेगा और अपनी छवि किसी मुख्तार अब्बास नकवी टाइप नेता की बना लेगा। मुझे इस देश का रफीक जकारिया नहीं बनना है जो पत्रकार होने के नाते जॉर्ज डब्ल्यू बुश की नीतियों और इराक में बुश के हर एक्शन का समर्थन करे। मैं किसी भी राजनीतिक पार्टी का अप्रत्यक्ष या प्रत्यक्ष रूप से सदस्य भी नहीं हूं। बात अगर विचारधारा की ही करनी है तो भगत सिंह और मुंशी प्रेमचंद के आगे मैं खुद को सोच पाने में असमर्थ पाता हूं। खैर अब तो शहीदे आजम भगत सिंह की विचारधारा को भी फैशन की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश की जा रही है और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने तो हाल ही में उन्हें अपनी विचारधारा का आदमी बता डाला था।
आज मैं फिर यही बात कह रहा हूं कि आतंकवाद से भी बड़ी लड़ाई भारत नामक देश को एकजुट रखने की है। यह काम अकेले न तो हिंदू कर सकता है, न मुसलमान, न सिख और न ईसाई। यह सभी को मिलकर करना है। अगर हम एकजुट रहते हैं तो कोई बाहरी ताकत हमारा कुछ बिगाड़ नहीं सकती। याद कीजिए पंजाब में जब खालिस्तान आंदोलन चला था और पूरी सिख कौम को बदनाम करने की साजिश रची गई तो उसका नतीजा क्या निकला। लेकिन भारत एकजुट रहा और खालिस्तान आंदोलन अब इतिहास में दफन हो चुका है। उस आंदोलन को किन देशों का समर्थन था, कहां से पैसा आ रहा था, किसी से छिपा नहीं है।
अगर कुछ लोग यह चाहते हैं कि मैं यह विचार यहां व्यक्त करूं कि चूंकि पाकिस्तान का हाथ इस घटना में है इसलिए भारत को फौरन पाकिस्तान पर हमला कर देना चाहिए। तो मैं कहना चाहता हूं कि – हां मैं इस तरह की कार्रवाई से सहमत हूं। पर क्या इससे समस्या का निदान हो सकेगा? भारत सरकार को कार्रवाई करने से भारत का कोई मुसलमान नहीं रोक रहा है लेकिन जिस तरह अमेरिका आए दिन पाकिस्तान के सीमांत प्रांत में मिसाइल गिराता है, बम फोड़ता है, वह ओसाम बिन लादेन को पकड पाया? किसी भी समस्या का नतीजा युद्ध से नहीं निकलता है। संवाद से कारगर चीज कोई नहीं है। इसलिए संवाद किया जाना चाहिए, समस्या के कारणों की गहराई में जाने की जरूरत है। भारत तो जब चाहे पाकिस्तान को मसल सकता है लेकिन शायद इतने भर से इस समस्या का हल नहीं निकलेगा। इसलिए मित्रो एकजुट रहिए औऱ समझदार बनिए। जो लोग हमारे लिए मुंबई में या सीमा पर कहीं भी शहीद होते हैं, उनको सच्ची श्रद्धांजलि तो यही होगी।

Friday, November 28, 2008

शुक्रिया मुंबई...और आप सभी के जज्बातों का

मुंबई ने फिर साबित किया है कि वह जीवट का शहर है। उसे गिरकर संभलना आता है। उस पर जब-जब हमले हुए हैं, वह घायल हुई लेकिन फिर अपने पैरों पर खड़ी हो गई। 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट के बाद मुंबई ने यह कर दिखाया और अब जब बुधवार देर रात को उस पर सबसे बड़ा हमला हुआ तब वह एक बार फिर पूरे हौसले के साथ खड़ी है। मुट्ठी भर आतंकवादी जिस नीयत से आए थे, उन्हें उसमें रत्तीभर कामयाबी नहीं मिली। उनका इरादा था कि बुधवार के इस हमले के बाद प्रतिक्रिया होगी और मुंबई में बड़े पैमाने पर खून खराबा शुरू हो जाएगा लेकिन उनके ख्वाब अधूरे रहे। मुंबई के लोग एकजुट नजर आए और उन्होंने पुलिस को अपना आपरेशन चलाने में पूरी मदद की। हालांकि मुंबई पुलिस ने इस कार्रवाई में अपने 14 अफसर खो दिए हैं लेकिन मुंबई को जिस तरह उन लोगों ने जान पर खेलकर बचाया है, वह काबिलेतारीफ है।
इस घटना को महज एक आतंकवादी घटना बताकर भुला देना ठीक नहीं होगा। अब जरूरत आ पड़ी है कि सभी समुदायों के लोग इस पर गंभीरता से विचार करें और ऐसी साजिश रचने वालों को बेनकाब करें। ऐसे लोग किसी एक खास धर्म या जाति में नहीं हैं। इनकी जड़ें चारों तरफ फैली हुई हैं। मुंबई पर इतने बड़े हमले की साजिश किसी क्षणिक आवेश में की गई घटना नहीं है, बल्कि इसके पीछे सोची-समझी और लंबी साजिश है। शुरुआती जांच से ही यह बात सामने आने लगी है कि जो आतंकवादी इस हमले में शामिल थे, उनके तार पाकिस्तान से जुड़े हुए हैं। बेशक पाकिस्तान में लोकतंत्र आ चुका है लेकिन वहां की सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई अब भी भारत विरोधी रवैया अपनाए हुए हैं। वहां के हुक्मरां आसिफ अली जरदारी का यह कहना कि अब समय आ गया है कि भारत-पाकिस्तान मिलकर आतंकवाद से मुकाबला करें, उनकी बेबसी को झलकाता है। क्योंकि वह भी आतंकवाद की वजह से अपनी पत्नी बेनजीर भुट्टो को खो चुके हैं। पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पाकिस्तान पर एक बदनुमा दाग की तरह हैं, जब तक कमान इन दोनों ऐजेंसियों के पास रहेगी, तब तक वहां कठपुतली सरकारों के अलावा आप और कुछ की उम्मीद नहीं कर सकते।
बहरहाल, यह समय नहीं है कि इस घटना के बहाने हम भारत के नेताओं को भी कोसें। लेकिन गुरुवार को जो राजनीतिक घटनाक्रम रहा, उससे यही लग रहा है कि बीजेपी इस मामले को हद तक उछालेगी और समुदाय विशेष पर निशाना साधने का उसका जो तरीका है वह उस पर काबू नहीं रख पाएगी। बीजेपी लंबे समय से धार्मिक ध्रुवीकरण के लिए काम कर रही है, इसलिए यकीन नहीं है कि उसके नेता अपनी जबान पर कंट्रोल रख पाएंगे, वह भी तब जह अगले कुछ महीनों में केंद्र की सरकार का फैसला होना है और उस दौड़ में उसे आगे बताया जा रहा है। हालांकि मशहूर फिल्म निर्देशक महेश भट्ट ने तो गुरुवार को एक इंटरव्यू में बहुत साफ लफ्जों में कह दिया कि पार्टी कोई भी हो लेकिन पब्लिक का भरोसा अब नेताओं पर से उठ चुका है। यानी पब्लिक को ही अब अपने अच्छे-बुरे के बारे में सोचना होगा कि हमे क्या चाहिए? हमे आगे जाना है या फिर तरक्की के सारे रास्ते बंदकर अपने ही घर में कैद हो जाना है। अगर कोई समुदाय यह सोचता है कि बेकसूर लोगों को जब एनकाउंटरों में मारा जाएगा और फर्जी मुकदमा चलाया जाएगा तो ऐसी ही घटनाएं होंगी, उसकी यह सोच एक व्यवस्थित समाज की सोच से मेल नहीं खाती। अच्छे और शांतिपूर्ण समाज का निर्माण ऐसी सोच से नहीं हो सकता। सोचिए अगर मुंबई में लाखों लोग इतने बड़े आतंकवादी हमले के बाद बेरोजगार हो जाएं तो वह आतंकवाद से भी घातक चीज होगी। उसमें सिर्फ अकेले हिंदू या अकेले मुसलमान ही शिकार नहीं होंगे। यह उसी तरह है कि विश्वव्यापी आर्थिक मंदी का असर हर देश पर पड़ रहा है, आर्थिक मंदी ने इस मामले में किसी देश को रियायत नहीं दी कि वह विकसित देश है या विकासशील गरीब मुल्क। इसलिए सोचिए कि यह सब बंद हो। ऐसे फिदायीन हमले किसी एक के लिए बल्कि सभी के लिए भारी पड़ते हैं।

सभी ब्लॉगर्स का भी धन्यवाद

मुंबई में घटी इतनी बड़ी घटना पर तमाम ब्लॉगर्स ने जिस तरह संतुलित प्रतिक्रिया दी, वह भी कम काबिलेतारीफ नहीं है। मेरे इस ब्लॉग नीचे वाले लेख पर आई प्रतिक्रियाओं और ईमेल से कम से कम यही बात साबित होती है। जो ब्लॉगर्स पत्रकार हैं, उनकी प्रतिक्रिया के तो कई आयाम होते हैं लेकिन ऐसे ब्लॉगर्स जो गैर पत्रकार हैं, उनकी संतुलित प्रतिक्रिया वाकई बहुत राहत पहुंचाने वाली है। इसी ब्लॉग पर आई प्रतिक्रियाओं में से शिक्षण कार्य में लगे लोग, वास्तुकला विशेषज्ञों की प्रतिक्रियाएं बड़ी ही स्वाभाविक हैं। मैं ऐसे तमाम लोगों का तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने अमन का पैगाम दिया है। चंद सिरफिरे लोगों की बातों पर हम सब को ध्यान देने की जरूरत नहीं है।

(यह पोस्ट लिखे जाने तक मुंबई में आतंकवादियों के खिलाफ सभी सुरक्षा एजेंसियों का संयुक्त आपरेशन जारी था। नरीमन हाउस में एनएसजी और आतंकवादियों में आमने-सामने की लड़ाई शुरू हो चुकी थी,उम्मीद है कि सब कुछ ठीक हो जाएगा।)



हालात को बयां करते कुछ चित्र
(http://ibnlive.com )

-आतंकवादी का चेहरा...किसने धकेला इनको इस राह पर


हमले के दौरान प्रसिद्ध ताज होटल के एक हिस्से में आग लग गई, शायद किसी आतंकवादी ने ग्रेनेड फेंका था




एनएसजी द्वारा मुक्त कराई गई विदेशी महिला खुशी के आंसू बहाती हुई


-पोजिशन संभाले हुए सुरक्षाकर्मी

इसमें चार तस्वीरे हैं। सबसे ऊपर मुंबई पुलिस का वाहन जिसे आतंकवादियों ने छीना और फिर कोलाबा में सरेआम गोलियां बरसाईं। घायल को ले जाता उसका साथी। ताज के बाहर मुंबई पुलिस का जमावड़ा। यह नक्शा बताता है कि मुंबई को कहां-कहां निशाना बनाया गया।

Thursday, November 27, 2008

स्सा..ले..नमक हराम...देशद्रोही...आतंकवादी

दिन बुधवार, रात 10.35...क्रिकेट मैच खत्म हो चुका है...भारत फिर किसी देश को हरा चुका है...टीवी पर फ्लैश – मुंबई पर आतंकवादी हमला... ...लीजिए भारत फिर हार गया...अपने ही लोग हैं...अपनों को ही निशाना बना रहे हैं।
एक जगह नहीं...कई – कई जगह गोलियां बरस रही हैं...ग्रेनेड फेंके जा रहे हैं...टीवी पर सब कुछ लाइव है...न्यूज चैनल वालों के लिए एक रिएलिटी शो से भी बड़ा आयोजन...ऐसा मौका फिर कब मिलेगा...पब्लिक से मदद मांगी जा रही है...आप हमें फोन पर हालात की जानकारी दीजिए...आप ही विडियो बना लें या फोटो खींच लें...हम आपके नाम से दिखाएंगे...पब्लिक में लाइव होने का क्रेज पैदा करने की कोशिश...सिटिजन जर्नलिस्ट के नाम पर ही सही...पब्लिक जितनी क्रेजी होती जाएगी...शो उतना ही कामयाब होगा और टीआरपी आसमान पर। अरे...अरे... ...विषय पर रहिए...भटक क्यों रहे हैं? चंदन को चिंता है...इस देश को गृहयुद्ध की तरफ धकेला जा रहा है। इराक बनाने की साजिश। सुरेश को...पूरी इकनॉमी खतरे में नजर आ रही है। राकेश को यह सब मुसलमानों की साजिश लग रही है...स्साले पाकिस्तान से मिले हुए हैं...नमकहरामी कर रहे हैं...। अरविंद आहत है...नहीं बे...चुनाव नजदीक है...यह सब बीज बोया जा रहा है...देखता नहीं आडवाणी ने फौरन पीएम से मांग रख दी न...मोहन तो और भी दूर की ले आया...यह सब असल मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए है। पुलिस वाले भी मिले रहते हैं...स्साले सिक्युरिटी टाइट क्यों नहीं करते। अभी कई जगह बम फटे हैं...तब भी होश नहीं आया। हरामजादे मेटल डिटेक्टर ऐसे लगाए रखते हैं कि सारे आतंकवादी इसी के जरिए पकड़े जाएंगे? रहमान क्या बोले...निंदा तो करनी ही पड़ेगी...खुद को राष्ट्रवादी साबित करना होगा...सच्चा भारतीय मुसलमान बताना या दिखना पड़ेगा...नहीं तो अप्रत्यक्ष ही सही कटाक्ष तो सहने ही होंगे। बटला हाऊस एनकाउंटर के किंतु-परंतु पर चुप्पी साधनी होगी। ज्यादा बोले तो देशद्रोही...भाई साहब, मैं तो कहता हूं सारे मुल्ले एक जैसे ही होते हैं...चाहे कितना भी पढ़ लें। रहेंगे पाकिस्तानी...फौरन धर्म के ठेकेदार बन जाएंगे...

उपसंहार...
इस देश के खिलाफ साजिशों का अंत नहीं हो रहा है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बुधवार देर रात हुआ आतंकवादी हमला इसी साजिश का हिस्सा है। इस बार जिस तरह से हमले किए गए हैं, वह दरअसल एक तरह की गुरिल्ला वॉर जैसे लग रहे हैं। यानी आतंकवादियों ने जान की परवाह न कर तमाम ठिकानों पर हमले किए, बम फेंके और गोलियां चलाईं। इस सारी घटना का सबसे अफसोसनाक पहलू यह है कि इस आतंकवादी हमले में महाराष्ट्र के एंटी टेररिस्ट स्कवैड के चीफ हेमंत करकरे भी मारे गए। हेमंत मालेगांव बम ब्लास्ट की जांच कर रहे थे, जिन्होंने लेफ्टिनेंट पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा, स्वामी अवधेशानंद और अन्य लोगों की गिरफ्तारियां की थीं। जब मैं यह पोस्ट लिखने बैठा थ, उसी समय आईबीएन लाइव पर इसका फ्लैश आया था।
पता नहीं गुरुवार को क्या होगा। मुंबई से रात में ही एक रिश्तेदार का फोन आया। उनकी आवाज नहीं निकल रही थी, ज्यादातर लोगों को अब क्रिया की प्रतिक्रिया यानी दंगों का डर सता रहा है। उनका कहना था कि जुलाई में मुंबई में जब लोकल ट्रेनों को निशाना बनाया गया था, उस वक्त तक हालात इतने बदतर नहीं थे, जितने आज हैं। ऊपर मैंने जिन बातों को बयान किया है...दरअसल, देश के किसी भी हिस्से में बम ब्लास्ट या इस तरह की आतंकवादी घटना के बाद होने वाली प्रतिक्रियाएं हैं जो आपको आपके आसपास ही मिल जाती हैं। यह उसी का चित्रण है। इसे आप लोग किस रूप में या क्या नाम देते हैं...मैं नहीं जानता। क्योंकि न यह लेख है और न ही कोई कविता। क्या इसे समय का दस्तावेज कहा जाए?
मुंबई की आतंकवादी घटना से जुड़े फोटो। ये सभी फोटो http://ibnlive.com से साभार सहित लिए गए हैं।


एटीएस चीफ हेमंत करकरे


कोलाबा में मारा गया आम आदमी


गोली से घायल जख्मी युवक अपनी चोट दिखाता हुआ


कोलाबा में एक और लाश मिली...आम इंसान की


मुंबई में हमले के फौरन बाद होटल ताज की ओर बढ़ती मुंबई पुलिस

Sunday, November 23, 2008

हमारा धर्म है झूठ बोलना


कोई नेता जब सत्ता हासिल करने के लिए पहला कदम बढ़ाता है तो उसकी शुरुआत झूठ से होती है। हर बार चुनाव में यही सब होता है और देश चुपचाप यह सब होते हुए देखता है। चुनाव आयोग एक सीमा तक अपनी जिम्मेदारी निभाकर चुप हो जाता है। यहां पर हम बात उन प्रत्याशियों की कर रहे हैं जो दलितों की मसीहा पार्टी बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से टिकट हासिल कर चुनाव मैदान में उतरे हैं। बात देश की राजधानी दिल्ली की ही हो रही है।
दिल्ली के महरौली विधानसभा क्षेत्र से कोई वेद प्रकाश हैं जिनके पास 201 करोड़ की संपत्ति है। यह बात उन्होंने चुनाव आयोग में जमा कराए गए हलफनामे में कही है। दूसरे नंबर पर बीएसपी के ही छतरपुर (दिल्ली) विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी कंवर सिंह तंवर हैं जिनके पास 157 करोड़ की संपत्ति है। इसके अलावा दिल्ली में कम से कम उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके पास एक करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। चुनाव आयोग के पास जमा यह सब दस्तावेजों में दर्ज है। यह सभी 153 प्रत्याशी बीजेपी, कांग्रेस, बीएसपी के ही हैं। सिर्फ पांच प्रत्याशी ऐसे हैं जिन्होंने अपनी संपत्ति शून्य (जीरो) दिखाई है।
लेकिन इनमें से जिन वेद प्रकाश का जिक्र यहां किया गया है, दरअसल वह उनकी एक ही संपत्ति का एक तिहाई हिस्सा है। यानी संपत्ति इससे कहीं ज्यादा है। यही हाल दूसरे नंबर के कंवर सिंह का है। यह सभी लोग प्रॉपर्टी के धंधे से जुड़े हुए हैं। संसद या विधानसभा में कैसे लोग चुनकर भेजे जाएं, इस पर काफी कुछ लिखा और पढ़ा जा चुका है। लेकिन यह सब चुनाव तक ही सीमित रहता है औऱ भूलने की आदत की गुलाम भारतीय मानस सब कुछ बिसरा देता है और फिर पूरे पांच साल हम लोग रोना रोते हैं कि हमारा एमपी या एमएलए यह नहीं कर रहा और वह नहीं कर रहा।
यहां हम कांग्रेस की बात नहीं करेंगे, क्योंकि जिस पार्टी ने भ्रष्ट संस्कृति को फैलाने में कोई कसर नहीं रखी, उसकी बात क्या की जाए। हां, हम उन दोनों पार्टियों बीजेपी और बीएसपी की बात जरूर करेंगे जो केंद्र की सत्ता पर कब्जा करने की तरफ तेजी से बढ़ रही हैं।
बीजेपी के दिग्गज प्रमोद महाजन की हत्या के बाद इस पार्टी के रणनीतिकर अब अरुण जेटली हैं। वह आडवाणी से भी बड़े रणनीतिकार माने जाते हैं, वकील हैं। अभी जब बीजेपी दिल्ली के टिकट बांट रही थी तो एक ओ. पी. शर्मा उर्फ ओमी नामक व्यक्ति को विश्वासनगर विधानसभा क्षेत्र से टिकट मिला। इनकी खासियत यह है कि यह साहब जेटली के पीए हैं और दिल्ली और एनसीआर में इनके ४० से ज्यादा शोरूम हैं। इनके टिकट पर बीजेपी में विद्रोह हो गया। विद्रोहियों ने एक श्वेत पत्र जारी कर सारी कहानी बीजेपी आलाकमान तक पहुंचाई। जिसमें साफ-साफ लिखा गया कि किसी भी राज्य में चुनाव जब होता है तो उस चुनाव के बाद ओमी का एक शोरूम एनसीआर या दिल्ली में खुल जाता है। यहां एनसीआर से मतलब है दिल्ली के आसपास के शहर जिसमें गुड़गांव, फरीदाबाद, नोएडा और गाजियाबाद शामिल हैं। बहरहाल, विद्रोहियों की एक नहीं सुनी गई और ओमी को टिकट दे दी गई।
इस लघु कथा के बाद क्या यह सवाल बाकी रह जाता है कि ऐसे लोग जब विधानसभा या लोकसभा में पहुंचेंगे तो किन नीतियों को लागू करेंगे और किस ऐजेंडे पर काम करेंगे। जिस पार्टी ने राजीव गांधी को भ्रष्ट साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, जिसने सोनिया गांधी के स्विस बैंक खाते का आरोप लगाया। यह उस पार्टी का हाल है जो राजनीति में ईमानदारी, शुचिता और समरसता की बात करती है। अभी आडवाणी ने देश के दिग्गज उद्योगपतियों की एक बैठक बुलाई जिसमें उन्होंने यह जाना कि देश के आर्थिक हालात क्या हैं। मतलब कि जब तक उद्योगपति नहीं बताएगा कि देश के आर्थिक हालात क्या हैं, एक राष्ट्रीय पार्टी को समझ में नहीं आएगा। यानी हम उद्योगपतियों के चश्मे से देश की हालत जानना चाहते हैं। जरा इसका औऱ बारीक विश्लेषण करें। छह महीने बाद लोकसभा चुनाव होंगे, उद्योगपतियों को भी यह बात पता है। संदेश क्या है- मतलब तुम हमारा चश्मा पहनो और हम तुम्हारा चश्मा पहने। देश की तरक्की तेजी से होगी। अब बताइए इसमें भारत का आम मतदाता कहां आता है। उसने तो सारी ताकत किसी आडवाणी, किसी सोनिया गांधी, किसी मुलायम सिंह या मायावती को दे दी है, वे अपना-अपना चश्मा लगाकर उद्योगपतियों से चाहे जितनी बार चश्मा बदलें। इन्हीं तमाम नामों में से किसी एक की पार्टी को सत्ता में आना है।
इसीलिए झूठ से अपनी राजनीति की शुरुआत करने वाले कभी देश या यहां के आम आदमी के बारे में नहीं सोच सकते। इन लोगों ने बड़ी चालाकी से तमाम तरह की चीजों में हम लोगों को उलझा दिया है औऱ हम लोग मरने-मारने पर उतारू हैं। पता नहीं कब लोग इन चालाकियों को समझेंगे।

हिंदी वाणी – यूसुफ किरमानी

Thursday, November 20, 2008

नेता का बेटा नेता बने, इसमें समस्या है


-स्वतंत्र जैन
ग्रैंड ओल्ड पार्टी कांग्रेस में तूफान आया हुआ है। आरोप है कि पार्टी में टिकट बेचे गए हैं। आरोप पार्टी की ही एक महासचिव ने लगाया है। इस पूरे विवाद पर गौर करें तो इसमे दो छोर साफ नजर आते हैं। एक तरफ आधुनिकता है तो दूसरी तरफ परंपरावादी। एक तरफ भारतीय पॉलटिक्स के ओल्ड गार्ड हैं तो दूसरी तरफ युवा नेता। जमे जमाए और खुर्राट नेता जहां यह कह रहे हैं कि 'जब डॉक्टर का बेटा डॉक्टर और वकील का बेटा वकील बन सकता है तो नेता का बेटा नेता क्यों नहीं हो सकता, तो राहुल गांधी जैसे युवा नेता कह रहे हैं पॉलटिक्स में एंट्री कैसे हो इसका भी एक तरीका होना चाहिए।

नेता का बेटा नेता बने इसमें किसी को क्या बुराई हो सकती है, आखिर जार्ज बुश सीनियर के पुत्र जार्ज बुश जूनियर भी तो आठ साल तक लोकतंत्र के मक्का माने जाने वाले अमेरिका के प्रेसीडेंट रहे। पर इस स्टेटमेंट में जो बात झलकती उससे वंशवाद की बू आती है, कि नेतागीरी पर पहला हक नेता के बेटे का है। यह वही वंशवाद की बीमारी है जिसका आरोप कभी कांग्रेस पर लगा करता था और जो अब महामारी बनकर लगभग हर पार्टी को अपनी चपेट में ले चुकी है।

नेता का बेटा नेतागीरी पर अपना हक समझे यह अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक है और इसके कारण हमारी राजनीतिक प्रणाली, सामाजिक प्रणाली, हमारी शासन प्रणाली और हमारे संविधान में ही निहित हैं।

सबसे पहले राजनीतिक प्रणाली की बात करते हैं। आज के भारत में नेता बनने की राह सामान्यता किसी आंदोलन या चमत्कारिक नेतृत्व और बौद्धिक क्षमता से होकर नहीं गुजरती। कोई शैक्षिक योग्यता, कोई डिग्री भी आवश्यक नहीं है। इसके लिए सामान्यता जो रास्ता अपनाया जाता है वो कुछ इस प्रकार है - किसी पार्टी में कार्यकर्ता बन जिले अथवा राज्य स्तर पर कोई पद प्राप्त करना। चुनाव के समय पार्टी से टिकट पाने का प्रयास करना। जीत जाने पर लोकसभा, विधानसभा या राज्यसभा का सदस्य बनकर जोड़तोड़, जुगाड़ से मलाईवाला मंत्रालय हथिया कर सत्ता सुख भोगते हुए जनता की सेवा करना।

इस पूरी प्रक्रिया में जो चीजें सबसे महत्वूपर्ण है वह है -पार्टी में पद, प्रभाव और टिकट की भूमिका। ये सभी चीजें किसी कार्यकर्ता को तभी नसीब होती हैं जब उसे किसी नेता का वरद्हस्त प्राप्त हो। अन्यथा वह जीवनभर कार्यकर्ता ही बना रह जाता है, चुनाव लडऩे का मौका भी उसे कभी नहीं मिलता। यहीं पर राजनीति अन्य प्रोफशनों से अलग हो जाती है। नेता पुत्र या रिश्तेदार के होते हुए किसी कार्यकर्ता को नेता आर्शीवाद मिल जाए, भारतीय राजनीति में यह बेहद टेढ़ी खीर साबित हो चुका है। भारत के सारे राजनीतिक दल इसके गवाह हैं। राहुल गांधी ने भी माना है कि राजनीति में एंट्री का कोई प्रोसीजर न होने के कारण कनेक्शन बड़ी भूमिका निभाते हैं।

इस बात को कुछ विस्तार से इस प्रकार समझा जा सकता है। नेताओं की तरह कोई डॉक्टर या वकील अपने को बेटे न तो आवश्यक डिग्री दिला सकता है और न ही प्रोफेशनल प्रभाव और सम्मान। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति को खुद ही प्रयास करना होता है।

दूसरा है इनके काम के स्वरूप में अंतर। नेता अपनी जिम्मेदारी निभाने के क्रम में सार्वजनिक संसाधनों का नियंत्रण और वितरण करता है जबकि वकील, डॉक्टर या व्यापारी अपने संसाधनों पर निर्भर होते हैं। नेताओं के निर्णय सार्वजनिक हित को, देश के वर्तमान और भविष्य को प्रभावित करते हैं, जबकि वकील या व्यापारी के निर्णय उनको खुद ही बनाते अथवा बिगाड़ते हैं। वे सफल होते हैं तो सरकार उनसे ज्यादा टैक्स लेती है और असफल होते हैं तो सरकार उन्हें उनके हाल पर छोड़ देती है। नेताओं के हाथ में जहां पूरे लोकतंत्र की बागडोर होती है पर वकील, डॉक्टर या व्यापारी की भूमिका सामान्यता वोटर से ज्यादा नहीं होती।

और इनमें सबसे बड़ा अंतर यह है कि नेता कर्म एक सेवा कर्म है कोई व्यवसाय या प्रोफेशन नहीं। इसीलिए नेता अपने वोटरों, अपने चुनाव क्षेत्र, अपनी पार्टी, अपने मंत्रालय, अपने देश के प्रतिनिधि होते हैं। सार्वजनिक हित, देश हित उनकी जिम्मेदारी होती है। जबकि वकील, डॉक्टर या फिर व्यापारी सिर्फ अपने और अधिक से अधिक अपने व्यवसाय या कंपनी के प्रतिनिधि होते हैं और उनका हित ही उनकी जिम्मेदारी होती है। नेता जनता के लिए और जनता द्वारा चुने जाते हैं इसलिए उन्हें अगर जनता से अधिक सम्मान मिलता है तो उनसे सार्वजनिक मर्यादाओं, कानूनों और अपेक्षाओं पर खरा उतरने की अधिक उम्मीद भी की जाती है।

इसीलिए वकील का बेटा वकील बने इसमें कुछ गलत नहीं है क्योंकि यहां कोई सार्वजनिक हित दांव पर नहीं है। पर नेता का बेटा नेता बने तो यही बात नहीं कही जा सकती है। सवाल उस सोच का है जिसके अंतर्गत नेता का बेटा नेतागीरी पर अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझता है, जो वकील या डॉक्टर का बेटा कभी नहीं समझता।

'नेता का बेटा नेता बने इस सोच का स्वभाविक विस्तार होगा कि किसान का बेटा किसान और मजदूर का बेटा मजदूर रहे। इस तरह यह विचार परिवर्तन के खिलाफ है और चूंकि जनता के चुनाव के दायरे को काफी हद तक नेतापुत्र तक ही सीमित करता है इसलिए अलोकतांत्रिक भी। फिर यह सोच जन्मगत अधिकार की बात करती है, जो कि एक तरह से जातिवाद का सिद्धांत: समर्थन है, इसलिए असंवैधानिक भी। क्या भारत के राजनेता पुत्रमोह में संविधान और लोकतंत्र सब कुछ ताक पर रख देना चाहते हैं ? ये नेता स्वयं क्यों कुछ नहीं बदलना चाहते, क्या सब कुछ ओबामा ही बदल देगा।

Sunday, November 16, 2008

जिंदा होता हुआ एक मशीनी शहर

मशीनी शहर फरीदाबाद वैसे तो किसी परिचय का मोहताज नहीं है लेकिन जो लोग पहली बार इसके बारे में पढ़ेंगे उनकी जानकारी के लिए बता दूं कि यह हरियाणा राज्य का तेजी से विकसित होता हुआ शहर है। यह दिल्ली से सटा हुआ है और यहां सिर्फ कल-कारखाने हैं। यह शहर दरअसल खुद में मिनी इंडिया है, जहां देश के कोने-कोने से आए लोग पुरसूकुन जिंदगी गुजारते हैं। नफरत की जो आंधियां बाकी शहरों में चलती हैं, वह यहां से कोसों दूर है। मेरी तमाम यादें इस शहर से जुड़ी हुई हैं। लंबे अर्से से इस शहर की साहित्यिक गतिविधियों की चर्चा कहीं सुनाई देती थी। हाल ही में जब मुझे कथाकार हरेराम समीप उर्फ नीमा का फोन आया कि अदबी संगम को फिर से जिंदा किया जा रहा है तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। अदबी संगम वह संस्था रही है जिसके जरिए मैंने साहित्य को नजदीक से जाना। आज से लगभग 15-20 साल पहले फरीदाबाद में साहित्यिक गतिविधियां चरम पर थीं। शायरों में खामोश सरहदी, अंजुम जैदी, हीरानंद सोज, डॉ. जावेद वशिष्ठ, ओम प्रकाश लागर, ओमकृष्ण राहत, के. के. बहल उर्फ केवल फरीदाबादी, उर्दू कहानी लेखकों में बड़ा नाम सतीश बत्रा, पंजाबी में तारा सिंह कोमल, सुभेग सदर, हिंदी में ज्योति संग और दीगर लोगों ने इस मुहिम को अंजाम तक पहुंचा दिया था। (हो सकता है कुछ नाम मुझसे छूट गए हों, इसकी मैं माफी चाहता हूं) इसी के चलते हरियाणा उर्दू अकादमी का दफ्तर फरीदाबाद में खुला और फिर राजनीति का शिकार होकर पंचकूला चला गया। बाद में खामोश सरहदी, लागर, सतीश बत्रा, तारा सिंह कोमल की मौत और कुछ लोगों के इस शहर से चले जाने की वजह से सारी गतिविधियों पर लगाम लग गई।
हरेराम समीप ने बताया था कि न सिर्फ अदबी संगम को फिर से जिंदा किया जा रहा है बल्कि सभी साहित्यिक संस्थाओं को इसमें बुलाया गया है और तीन किताबों का विमोचन भी किया जा रहा है। ये थीं अंजुम जैदी, केवल फरीदाबादी और सुभेग सदर की किताबें। बहरहाल, अदबी संगम का यह कार्यक्रम बेहद सफल रहा और इस मशीनी शहर में उम्मीद की नई रोशनी छोड़ गया है। इसके फौरन बाद कुछ अन्य साहित्यिक संस्थाओं ने भी फरीदाबाद में इस तरह का कार्यक्रम करने की घोषणा कर डाली है जो यकीनन एक अच्छा संकेत है।
इनमें केवल फरीदाबाद वह छिपा हुआ नाम है जिसकी रहनुमाई में फरीदाबाद की साहित्यिक गतिविधियां चलती रहीं। वह एक कंपनी में उच्च पद पर थे, इसलिए पैसे से जेब खाली वाली साहित्यिक संस्थाओं के वही सबसे बड़े पालनहार थे। अब वह रिटायर हैं लेकिन इस मोर्चे पर उनकी वही अप्रोच है। उनकी किताब बोलते लम्हे जो अब भी मैं पढ़ रहा हूं, दरअसल जिंदगी का दस्तावेज है। भारत-पाकिस्तान के नापाक बंटवारे के बाद जो रिफ्यूजी उजड़कर भारत में आए, उनमें से एक बड़ी तादाद फरीदाबाद में बसती है। उनकी शायरी में इसका दर्द जाने-अनजाने झलकता है। यहां मैं उनकी कुछ गजल पेश करूंगा और आगे भी जब मौका मिलेगा तो इस ब्लॉग पर आपको उनकी अन्य गजलों और नज्मों से रूबरू कराउंगा।
अंजुम जैदी ने कर्बला में एक तानाशाह के खिलाफ इमाम हुसैन (पैगंबर मोहम्मद साहब के नवासे) की जंग को जिस अंदाज में कलमबंद किया है, वह दरअसल उर्दू साहित्यिक के उच्च मानदंड स्थापित करने वाली किताबों में से है। जहां तक मुझे याद है यह उनकी तीसरी किताब है लेकिन उनकी हर किताब एक से बढ़कर एक साबित हुई है। तीसरी किताब कर्बला - मोहसिने इंसानियत दरअसल मुसद्दस की शक्ल में है। इस ब्लॉग पर शीघ्र ही उनकी अन्य रचनाओं को सामने लाने की मेरी कोशिश रहेगी। हालांकि सुभेग सदर की किताब पर भी मैं कुछ लिखना चाहता था लेकिन दफ्तर की भागमभाग में मुझे न उनकी किताब मिली और न ही मैं उसको प्राप्त कर सका। लेकिन सुभेग सदर से भी रूबरू का मौका हम लोगों को मिलेगा।

इन तीनों हस्तियों के बारे में मैने यहां बहुत संक्षेप में लिखा है। क्योंकि ब्लॉग पर लंबी बात लोग पढ़ने को तैयार नहीं होते इसलिए इसे यहीं पर खत्म करके उन दोनों शायरों के कुछ अशार आपकी खिदमत में पेश करता हूं।

अंजुम जैदी

इंतजार का सूरज
सूरज न हो तो वक्त का एहसास ही न हो
सूरज न हो तो लब पे कभी प्यास ही न हो
सूरज न हो तो फूलों में ये बास ही न हो
सूरज न हो तो सुबह की फिर आस ही न हो
सूरज न हो तो गरदिशे शामो सहर न हो
सूरज न हो तो जीस्त किसी की बसर न हो।
सूरज न हो तो तीरगी ही तीरगी रहे
सूरज न हो तो जुल्मते शब ही बनी रहे
तारों में ज़ौ न चांद में ताबंदगी रहे
मंजर कोई न आंखों में फिर रोशनी रहे
दुनिया में कुछ सुझाई न दे रात के सिवा
हाथ आए कुछ न चादरे जुल्मात के सिवा।
जादा कोई न फिर कोई मंजिल नसीब हो
तूफान में किसी को न साहिल नसीब हो
राहत सुकून चैन न दिल को नसीब हो
जद्दो जेहद का कोई न हासिल नसीब हो
फरियादो अलमदद की सदा गूंजती रहे
कानों में सायं-सायं हवा गूंजती रहे।

...

सब कुछ है मगर दीन का चर्चा ही नहीं है
रौशन हों दिये लाख उजाला ही नहीं है

...
हमारी जिंदगी है रहबरे मंजिल निशां बनकर
हमें जीना नहीं आता ग़ोबारे कारवां बनकर
हमी ने जहल की तारीकियों में रहबरी की है
जेहादे इल्म की तहरीक के रूहे रवां बनकर
अलम इंसानियत का लेकर हर साहिल से गुजरे हैं
कभी तूफान की सूरत कभी मौजे रवां बनकर
चमनजारों से गुजरे दर्से तंजीमे चमन देते
बयाबानों में पहुंचे हैं तो हुस्ने गुलिस्तां बनकर

के . के. बहल उर्फ केवल फरीदाबादी
(बहल साहब की यह गजल मुझे बेहद पसंद है)

कौन रोकेगा ज़माने को सितम ढाने से
बाज़ आए नहीं ज़ालिम कभी समझाने से
रंग तो एक ही होता है लहू का यारो
चाहे काबा से बहे या किसी बुतखाने से
करबला का यह सबक आज के कातिल सीखें
जुर्म तो जुर्म है मिटता नहीं पछताने से
दर्दो गम रंजो अलम लुत्फो मुहब्बत क्या है
बात यह पूछ ले हमदम किसी दीवाने से
कोई दीवाना हुआ या कोई दिल टूटा है
फिर जो आई सदा नज्द के वीराने से
कुर्बे मुर्शिद से मुझे रब्ते खुदा हासिल है
मैं पलट आया हूं मस्जिद से सनमखाने से
दोस्त भी सुनते नहीं दिल पे जो गुजरी केवल
हाले दिल कौन कहे फिर किसी बेगाने से

कुछ और शेर देखिए

सब के दिल में अगर खुदा होता
खून बंदों का क्यों बहा होता
...
यह तो इक काफिरों की बस्ती थी
किसने पहली अजान दी होगी

...
रहम की तहजीब से रौशन रहे हैं ये मकां
किस को होगा बैर ईसा की सनागाहों के साथ
...
अजनबी चेहरे थे कोई आशना चेहरा न था
ऐसा लगता था कि कोई शहर में मेरा न था

अदबी संगम के कार्यक्रम में मौजूद बाएं से शायर केवल फरीदाबादी और अंजुम जैदी


हिंदी वाणी – यूसुफ किरमानी

Thursday, November 13, 2008

जिंदगी की दास्तां कैसे लिखें



इधर कई दिनों से लिखने की बजाय मैं पढ़ रहा था। खासकर गजलें और कविताएं। यहीं आपके तमाम ब्लॉगों पर। मैं मानता हूं कि तमाम बड़े-बड़े लेख वह काम नहीं कर पाते जो किसी शायर या कवि की चार लाइनें कर देती हैं। समसामयिक विषयों पर कलम चलाने वाले कृपया मेरी इस बात से नाराज न हों। क्योंकि इससे उनकी लेखनी का महत्व कम नहीं हो जाता। लेकिन यकीन मानिए की गजल या कविता से आप सीधे जुड़ा हुआ महसूस करते हैं। आपको लगता है कि यह शायर की यह बात आपकी गजल को कहीं छू गई।
गजल और कविता के ब्लॉगों की सर्फिंग के दौरान एक बात जो मैंने खासतौर से महसूस की कि शायरों की एक बड़ी जमात मौजूदा दौर के हालात पर बेबाकी से अपनी कलम चला रही लेकिन उसकी तुलना में हिंदी में यह काम जरा कम ही हो रहा है। मैं यहां हास्य के नाम पर मंच पर फूहड़ कविताई करने वालों की बात नहीं कर रहा जो दिहाड़ी के हिसाब से किसी भी विषय पर कुछ भी लिख मारते हैं।
उम्मीद है कि इससे अगली पोस्ट में मैं दो ऐसे शायरों से आपका परिचय कराऊं जो बेहद खामोशी से अपने रचना संसार में लगे हुए हैं। हाल ही में इनकी दो पुस्तकों का विमोचन भी हुआ, जिसके बहाने मुझे इनके बारे में और जानने का मौका मिला। लेकिन आज यहां जिन लोगों की गजल और कवितो को मैं आपके लिए पेश करना चाहता हूं, उन्हें पढ़ने के बाद आप कहेंगे कि ऐसे शायरों और कवियों तक सभी को पहुंचना चाहिए।
जिन शायरों या कवियों को मैंने ब्लॉगों पर पढ़ा है, हो सकता है कि उनमें से बहुतों की रचनाएं आपकी नजर से गुजरी हुई हों। लेकिन यहां मैं उनको दोबारा से इसलिए पेश करना चाहता हूं कि वे लोग जो उन शायरों या कवियों के ब्लॉगों पर नहीं गए हैं, वे वहां जाएं। मेरा खासकर निवेदन उन साथियों से है जो भारत से बाहर रह रहे हैं और उनमें अपने वतन के लिए कुछ जज्बात बाकी हैं।
जिनसे आजकल मैं बहुत ज्यादा प्रभावित हूं, उनका नाम है – डॉ. अमर ज्योति। इससे ज्यादा मैं उनके बारे में और नहीं जानते। उनके ब्लॉग तक पहुंचा भी अपने ही ब्लॉग के जरिए और जब उनकी रचनाएं पढ़ीं तो लगा कि बस पढ़ते ही जाएं...



डॉ. अमर ज्योति की कलम से

दास्तां कैसे लिखें

धूल को चंदन, ज़मीं को आसमाँ कैसे लिखें?
मरघटों में ज़िंदगी की दास्तां कैसे लिखें?


खेत में बचपन से खुरपी फावड़े से खेलती,
उँगलियों से खू़न छलके तो हिना कैसे लिखें?


हर गली से आ रही हो जब धमाकों की सदा,
बाँसुरी कैसे लिखें; शहनाइयां कैसे लिखें?

कुछ मेहरबानों के हाथों कल ये बस्ती जल गई;
इस धुएँ को घर के चूल्हे का धुआँ कैसे लिखें?

रहज़नों से तेरी हमदर्दी का चरचा आम है;
मीर जाफर! तुझको मीर-ऐ-कारवाँ कैसे लिखें?



मीडिया को तो कहानी चाहिए
राम जी से लौ लगानी चाहिए;
और फिर बस्ती जलानी चाहिए।

उसकी हमदर्दी के झांसे में न आ;
मीडिया को तो कहानी चाहिए।

तू अधर की प्यास चुम्बन से बुझा;
मेरे खेतों को तो पानी चाहिए।

काफिला भटका है रेगिस्तान में;
उनको दरिया की रवानी चाहिए।

लंपटों के दूत हैं सारे कहार,
अब तो डोली ख़ुद उठानी चाहिए।

कैसा सन्नाटा है जिंदान की तन्हाई में

टूटते सपनों की ताबीर से बातें करिये,
जिंदगी भर उसी तसवीर से बातें करिये।
कैसा सन्नाटा है ज़िन्दान की तनहाई में,
तौक़ से, पाँव की ज़न्जीर से बातें करिये।


सर उठाने लगे हिटलर के नवासों के गिरोह,
अब कलम से नहीं, शमशीर से बातें करिये।


दिल के बहलाने को तिनकों से उलझते रहिये,
बात करनी है तो शहतीर से बातें करिये।


पाँव के छाले मुक़द्दर को सदा देते हैं;
हौसला कहता है तदबीर से बातें करिये।

नीरज गोस्वामी की कलम से

खौफ का खंजर

ख़ौफ़ का ख़ंज़र जिगर में जैसे हो उतरा हुआ
आजकल इंसान है कुछ इस तरह सहमा हुआ

साथियो ! गर चाहते हैं आप ख़ुश रहना सदा
लीजिए फिर हाथ में जो काम है छूटा हुआ

दीन की , ईमान की बातें न समझाओ उसे
रोटियों में यारो ! जिसका ध्यान है अटका हुआ

फूल ही बिकता हैं यारो हाट में बाजार में
क्या कभी तुमने सुना है ख़ार का सौदा हुआ

झूठ सीना तान कर चलता हुआ मिलता है अब
हाँ, यहाँ सच दिख रहा है काँपता-डरता हुआ

अपनी बद-हाली में भी मत मुस्कुराना छोड़िये
त्यागता ख़ुशबू नहीं है फूल भी मसला हुआ

तजरिबों से जो मिला हमने लिखा ‘नीरज’ वही
आप की बातें कहाँ हैं, आप को धोखा हुआ


लेकिन नीरज की इस गजल को उनके ब्लॉग पर टिप्पणीकार अल्तमश ने कुछ सुधार कर पेश किया है, जिसे आप भी पढ़ें। अल्तमश आपके इस ब्लॉग पर भी विभिन्न विषयों पर टिप्पणी कर चुके हैं। पेश है अल्तमश की कलम से नीरज गोस्वामी की सुधरी हुई गजल-

खौफ का खंजर जिगर में जैसे हो उतरा हुआ
आजका इंसान है कुछ इस तरह सहमा हुआ।
चाहते हैं आप खुश रहना अगर, तो लीजिये,
हाथ में वो काम जो मुद्दत से है छूटा हुआ।
दीनो-ईमाँ की नसीहत उस से है करना फुजूल,
जिसका दिल दो वक़्त की रोटी में है अटका हुआ।
फूल की खुशबू ही तय करती है उसकी कीमतें,
क्या कभी तुमने सुना है, खार का सौदा हुआ।
झूठ सीना तानकर चलता हुआ मिलता है अब,
सच तो बेचारा है दुबका, कांपता डरता हुआ।
तजरबों से जो मिला हमने लिखा नीरज वही,
हम-ज़बां हैं आप मेरे, ये बहुत अच्छा हुआ।


बाकी शायरों व कवियों के बारे में जल्द ही।

Monday, November 10, 2008

कुछ तो शर्म करो


अब वह दिन दूर नहीं जब आप किसी राजनीतिक पार्टी से अगर उसकी सभा या रैली में सवाल करेंगे तो उस पार्टी के वफादार कार्यकर्ता आपको पीटने से परहेज करेंगे। आपकी जुर्रत को राजनीतिक दल अब बर्दाश्त नहीं करेंगे। वह राजनीतिक पार्टी (Political parties)जो खुद को सत्ता के बिल्कुल नजदीक समझ रही है और जिसने अपना पीएम इन वेटिंग भी बहुत पहले घोषित कर दिया है, यह उसी पार्टी का हाल है जो अपने खिलाफ होने वाले प्रतिकूल सवालों को बर्दाश्त करने का माद्दा खो चुकी है। आप सही समझे यहां बात बीजेपी की ही हो रही है। राजधानी में इधर दो घटनाएं हुईं जो अखबारों में बहुत मामूली जगह ही पा सकीं लेकिन दोनों घटनाएं अपने आप में बहुत गंभीर हैं।
दिल्ली के पुष्प विहार इलाके में शनिवार शाम को बीजेपी की एक सभा हुई। इस इलाके से बीजेपी प्रत्याशी सुरेश पहलवान चुनाव लड़ रहे हैं। उस सभा को पुष्प विहार इलाके के लोग बड़े ही चाव से सुन रहे थे। तब तक सब गनीमत रहा, जब तक बीजेपी नेता स्थानीय मुद्दों बीआरटी कॉरिडोर, भ्रष्टाचार, महंगाई, बढ़ते अपराध को लेकर शीला दीक्षित सरकार को कोसते रहे। लेकिन इसके बाद इन लोगों ने सभा में मुसलमानों को देश विरोधी बताना शुरू कर दिया और कहा कि इन लोगों की इस देश को जरूरत ही नहीं है। इस पर सभा में मौजूद एक युवक ने इन लोगों से सवाल किया कि देश बड़ा है या दल? आप लोग तो देश बांटने की बातें कर रहे हैं। बीजेपी नेताओं ने बड़ी शालीनता से उस युवक से कहा कि आप बैठ जाएं, अभी थोड़ी देर में हम बताते हैं कि देश बड़ा है या दल। ठीक दस मिनट बाद उस युवक के पास चार-पांच लोग आए और कहा कि आइए भाई साहब हम आपको इस सभा से बाहर चलकर समझाते हैं कि दल बड़ा है या देश। हालांकि उस दौरान एक मातृ शक्ति (बीजेपी के मुताबिक) ने कहा कि अरे दल बड़ा होता है, देश तो बाद की चीज है। उन युवकों ने उस मातृ शक्ति से भी कहा कि नहीं, इन भाई साहब को अलग से बताना जरूरी है। इसके बाद उन युवकों ने उसकी जबरदस्त पिटाई की और हर मुक्के के साथ यही कहते रहे कि अब समझ में आ गया होगा कि दल बड़ा है या देश। आप कहेंगे कि यह घटना बनावटी है, झूठी है। ऐसी कहानी तो कोई भी सुना देगा। तो आप भी सुनिए। अगर यह घटना किसी आम अच्छी सोच वाले इंसान के साथ हुई होती तो शायद हमें भी न पता चलता। यह घटना दरअसल, राजधानी के एक प्रतिष्ठित हिंदी दैनिक के आर्ट डिपार्टमेंट में काम करने वाले युवक के साथ हुई जो खुद भी बहुत अच्छा ग्राफिक आर्ट बनाता है। जब उसने रात में फोन पर दफ्तर में इस घटना की जानकारी दी तो उसे पुलिस में एफआईआर कराने की सलाह दी लेकिन पिटने से आहत उस युवक ने कहा कि वह पुलिस कार्रवाई करेगा तो वे लोग पुष्प विहार में उसका रहना दूभर कर देंगे। वैसे भी महज हंगामा करने के लिए मैंने यह सवाल नहीं पूछा था। इस तरह के सवाल अब लोग इन लोगों से गली-गली पूछेंगे, फिर ये कितने लोगों को इस तरह पीटेंगे। यह कहते हुए मैंने उस युवक के चेहरे पर पूरा आत्मविश्वास देखा था।
अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने की दूसरी घटना दिल्ली यूनिवर्सिटी में इस हफ्ते हुई। आर्ट फैकल्टी में एक सेमिनार में आयोजकों ने कश्मीरी पत्रकार एसएआर गिलानी को भी बुलाया था। गिलानी वही हैं जिन्हें पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह, आतंकवाद फैलाने और अन्य तमाम आरोपों से मुक्त कर दिया है। अभी सेमिनार चल ही रहा था कि भाजपा से जुड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कुछ कार्यकर्ताओं ने वहां नारे लगाने लगे। उन्होंने आर्ट फैकल्टी में तोड़फोड़ की और पत्रकार गिलानी के मुंह पर थूक भी दिया। एबीवीपी का कहना था कि गिलानी को आयोजकों ने वहां क्यों बुलाया, यह तो आतंकवाद का समर्थक है, देशद्रोही है। ये दोनों घटनाएं हमसे-आपसे कुछ कहती हैं। इनका विरोध हम लोगों को करना चाहिए या नहीं? क्या इस तरह की उम्मीद हम उस राजनीतिक दल से कर सकते हैं जो खुद को सबसे बड़ी आदर्शवादी पार्टी बताती है और दिन-रात अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की दुहाई देती है। एक ऐसी पार्टी जो केंद्र में इस बार सरकार बनाने का सपना पाले हुए है। ये दोनों घटनाएं इस पार्टी का चरित्र बताने के लिए काफी हैं। दिल्ली यूनिवर्सिटी में हुई घटना को हम थोड़ी देर के लिए यह कहकर भूल जाते हैं कि आखिर गिलानी विवादास्पद हैं तो सामने वाला इस तरह की प्रतिक्रिया देगा ही। लेकिन पुष्प विहार में उस युवक ने क्या कसूर किया था? सोचिए जरा...यह छिपी हुई तानाशाही इस देश को कहां ले जाएगी?

हिंदी वाणी – यूसुफ किरमानी

Friday, November 7, 2008

एक छात्र का मुझसे बारीक सवाल


भारतीय लोकतंत्र में क्या दिनों-दिन गिरावट आ रही है? यह सवाल मुझसे 12वीं क्लास के एक छात्र ने आज उस वक्त किया, जब मैं किसी सिलसिले में उसके स्कूल गया था और एक टीचर ने मुझसे एक पत्रकार के रूप में उस छात्र से परिचय करा दिया। फिर उसने अचानक अमेरिका का उदाहरण दे डाला कि तमाम अमेरिकी दादागीरी के बावजूद हर राष्ट्रपति चुनाव में वहां की जनता अमेरिकी लोकतंत्र को और मजबूत करती हुई दिखाई देती है जबकि भारत में हर चुनाव के साथ इसमें गिरावट देखी जा रही है। मैंने उस छात्र को विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश को लेकर इस तरह की राय न बनाने की सलाह दी और कुछ बताना चाहा। लेकिन उसके अपने अकाट्य तर्क थे।
उसका कहना था कि आप लोग कब तक झूठ बोलते रहेंगे। उसने कहा कि ऐसा कोई चुनाव याद दिलाइए जब भारत में जाति और धर्म के नाम पर वोट न मांगे गए हों? क्या यहां यह संभव है? सच यह है कि इस देश की सत्ता जिन लोगों के हाथों में होनी चाहिए, वे हाशिए पर हैं। भारत एक गरीब देश है लेकिन कोई गरीब, दलित या मुसलमान इस देश का प्रधानमंत्री नहीं बन सका? मैंने उसे एपीजे अब्दुल कलाम, हामिद अंसारी (मौजूदा उपराष्ट्रपति), डा. जाकिर हुसैन और फखरुद्दीन अली, बी. वी. गिरि, के. आर. नारायणन सरीखे कुछ नाम गिनाने चाहे लेकिन उसने बात बीच में काट दी कि मैं रबर स्टैंपों की बात न करूं।
इस अप्रत्याशित बातचीत के लिए मैं तैयार नहीं था। इस बातचीत के बाद मैं इस पर काफी देर तक मनन करता रहा और इस नतीजे पर पहुंचा कि उस छात्र ने बहुत बारीक सवाल उठाया है।
इस अमेरिकी चुनाव के नतीजे ने भारतीय जनमानस पर अपनी छाप छोड़ी है। पहली बार यूएसए के उन लोगों ने खुलकर मतदान किया जिन्हें नस्लवाद की वजह से हमेशा पीछे ढकेला जाता रहा। वहां के नीग्रो और अन्य अफ्रीकी-अमेरिकी बाशिंदे और रेड इंडियन ठीक उन्हीं हालात में हैं जहां आज भारत में दलित और अल्पसंख्यकों में मुस्लिम समाज के लोग खड़े हुए हैं। लेकिन वहां की चुनाव प्रणाली ऐसी है कि वहां ओबामा जैसे लोग हाशिए से निकलकर मुख्यधारा में आ जाते हैं।
वाम दलों को छोड़कर आप यहां कि किसी भी पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र पर नजर डालें तो हालत यहां के लोकतंत्र से भी गई गुजरी है। कांग्रेस हर काम और हर बात के लिए सोनिया गांधी की ओर देखती है। बेशक प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह हैं। बीजेपी ने पिछली बार अटल बिहारी वाजपेयी को अपना पीएम कैंडिडेट बताकर पेश किया था, इस बार लालकृष्ण आडवाणी को पीएम इन वेटिंग बताया गया है। यही हाल अभी जिन राज्यों में चुनाव हो रहे हैं, वहां भी बीजेपी ने अपने सीएम के कैंडिडेट पहले से तय कर दिए हैं। यह कैसा लोकतंत्र है, जहां विधायक या सांसदों को अपना नेता चुनने का हक नहीं है। हालांकि ये सभी पार्टियां अपने संगठन चुनाव कराने का ढोंग भी करती हैं। लेकिन प्रदेश अध्यक्ष आज भी इनका आलाकमान तय करता है।
इन दोनों ही पार्टियों ने अपनी पार्टी में दलित और मुस्लिम नेताओं को कितना आगे बढ़ाया है, यह हकीकत किसी से छिपी नहीं है। दलित प्रत्याशियों को खैर ये दोनों पार्टियां बड़ी मुश्किल से टिकट देकर ही एहसान करती हैं क्योंकि सीट रिजर्व होने की वजह से यह मजबूरी है। लेकिन मुसलमानों, सिखों और ईसाइयों के मामले में ऐसा नहीं होता। इस तबके के नेताओं को दोनों पार्टियां तभी टिकट देती हैं, जब देखती हैं कि उस सीट पर मुस्लिम वोट या सिख वोट ज्यादा हैं। क्या यह इन पार्टियों की जिम्मेदारी नहीं है कि वे किसी भी क्षेत्र से अल्पसंख्यक को टिकट देकर उसे जिता कर लाएं और सत्ता की बागडोर सौंपे। लेकिन जब दोनों पार्टियां महिलाओं को इस तरह का हक देने को तैयार नहीं हैं तो फिर यह बात तो दूर की कौड़ी है।
दलितों ने जरूर कांशीराम की पार्टी और रामविलास पासवान की पार्टी से जुड़कर अपनी पहचान बनाई है लेकिन अन्य पार्टियों में वे भी हाशिए पर हैं। वामदल इस कोशिश में हैं कि अगले चुनाव में केंद्र की सत्ता पर मायावती को बतौर प्रधानमंत्री बैठा दिया जाए लेकिन मायावती की दलित प्रतिबद्धता और काम करने के तरीके से तमाम तरह की शंकाएं पैदा होती हैं। बहरहाल, वामदल अगर यह प्रयोग करना चाहते हैं तो इसमें कोई बुराई भी नहीं है।
अल्पसंख्यकों और अन्य दबे-कुचले लोगों को सत्ता तभी मिल सकती है जब कांग्रेस और बीजेपी इस तबके के प्रत्याशी को कहीं से भी जिताकर लाने का बूता रखती हों। बड़े पैमाने पर इस तबके के लोगों को सभी दलों में टिकट दिए जाएं, लेकिन बड़ी चालाकी से ऐसा होने नहीं दिया जा रहा है। क्योंकि जातिवाद के नाम पर जब टिकट दिया जाएगा तो लोग भी उसी आधार पर वोट डालेंगे।

एक शिकायत चिट्ठाजगत वालों से


यह क्या है मेरे भाई? मैंने नीचे की पोस्ट हिंदी अंग्रेजी में मिलाकर की लेकिन पिंग करने पर आपने उसे अपने ताजा चिट्ठों की सूची में नहीं दिखाया। माना कि आप सिर्फ हिंदी के लिए ही समर्पित हैं लेकिन इस तरह के चिट्ठों को स्वीकार करने में आपका स्टैंडर्ड तो नहीं गिरेगा? अब तो समय हिंदी अंग्रेजी के मिलजुल कर (देखो भाई लोग गाली मत देने लगना, हमें भी हिंदी से उतना ही प्यार है जितना आपको है) चलने का है। दरअसल, इस तरह का सहारा लेने की जरूरत कभी-कभी तब पड़ती है जब आप अपना नजरिया किसी खास मुल्क के लोगों को पढ़ाना चाहते हैं। चूंकि मेरा ब्लॉग अमेरिका में काफी खोला और पढ़ा जा रहा है, इसलिए मैंने यह कदम उठाया। अन्यथा अपना इरादा खालिस हिंदी में ही बात करने का रहता है।
बहरहाल, यह गलती अगर मेरी ही है तो भी चिट्ठाजगत वालों को इस पर विचार तो करना चाहिए कि क्या यह संभव है। अगर यह संभव नहीं है तो कुछ और उपाय सोचा जाएगा। मैंने यह पोस्ट यहां सार्वजनिक इसलिए भी की शायद किसी और को भी इससे दो-चार होना पड़ा हो। अन्यथा यह बात तो मैं चिट्ठा जगत को ई-मेल के जरिए लिख भेजता। बहरहाल, अब गेंद उनके पाले में है।

सवाल अंकल सैम के चरित्र बदलने का है?

अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति बराक ओबामा पर दुनिया में बहस शुरू हो गई है कि जिस बदलाव की उम्मीद इस व्यक्ति ने जगाई है क्या वह अमेरिका के चरित्र से मेल खाता है। वरिष्ठ पत्रकार स्वतंत्र जैन ने इसी मुद्दे को उठाया है। स्वतंत्र जैन नवभारत टाइम्स में कार्यरत हैं। हमारे अमेरिकी पाठकों के लिए भारतीय नजरिए के इस लेख को स्वतंत्र जैन ने हिंदीवाणी के आग्रह पर अंग्रेजी में लिखा हैः


Color of America has changed, lets see its content of character?

By Swatantra Jain
The face of America has changed – virtually. The man who now heads America has named himself Mr Change. Barak Obama said in his acceptance speech, ‘Change Has Come’. Through his campaign and by his presence Barak Hussine Obama has raised expectation and awakened hope not only in America but across the globe. Electorally, only United States of America has showed trust in him but vibration of his victory has witnessed an unprecedented world wide echo. Reason being that he is riding on hope and has come through breaking many barriers of racial, religious, ethnic and geographic boundaries. Ethnically speaking he inherit legacy of three continents – Africa, Asia and North America, But emphatically speaking millions of faceless, hopeless and marginalized people across the globe will see his success as their own and would seek inspiration form this man’s journey .

In America and the around the World, expectations and emotions have never been so high with a election of President of the America. The whole world was seeing the election with curiosity and hope.

At last American voter did it, but this is yet to be seen whether only skin color of face of America has changed or it has also changed its character as the Martin Luther dreamt. The world and the future generation will also see how Obama reconciles local responsibilities and global expectation, which go against each other quite a time.

He has become an example of hope and given the challenge, he is quite vulnerable to become the example of disappointment. Higher the hope, greater may become the disappointment.

Thursday, November 6, 2008

क्या अब खत्म हो जाएगी अमेरिकी दादागीरी?


बराक ओबामा ने जब डेमोक्रेट उम्मीदवारी की रेस में हिलेरी क्लिंटन को पछाड़ा था, तभी इस बात की भविष्यवाणी की गई थी कि यह चुनाव विश्व इतिहास का टर्निंग पॉइंट साबित होने जा रहा है। ओबामा ने अमेरिकी मानस को समझा और बदलाव का नारा देकर अमेरिकी लोगों का दिल जीत लिया। हम भारतीय या यह कह लें कि एशियाई लोगों के लिए इस जीत का मतलब क्या है और क्या हमें वाकई ओबामा की जीत से खुश होना चाहिए। मैं यह नहीं कहता कि सारे गोरे (यहां अंग्रेजों के संदर्भ में लें) काले लोगों से चिढ़ते हैं लेकिन गोरों की एक बहुत बड़ी आबादी कालों से वाकई चिढ़ती है। यही वजह रही कि अमेरिका में तमाम काले लोग गोरों की घृणा का शिकार हुए। इसलिए हम भारतीयों को इस जीत पर इसलिए जरूर खुश होना चाहिए कि व्हाइट हाउस में पहली बार एक काला व्यक्ति कुर्सी संभालने जा रहा है। अब गोरे कम से कम खास जगहों पर यह तो नहीं लिख सकेंगे कि इंडियन एंड डॉग्स आर नॉट एलाउड हियर (यहां कुत्तों और भारतीयों का प्रवेश वर्जित है)। ओबामा की जीत पर काले लोगों की विजय के साथ अब सबसे बड़ी चुनौती ओबामा के सामने है कि क्या वह दुनिया को इस्राइल के आतंकवाद से मुक्ति दिला पाएंगे?
ओबामा की जीत के साथ-साथ इसके नफा-नुकसान के बारे में बात करना इसलिए भी जरूरी है कि न सिर्फ अमेरिका बल्कि पूरा विश्व इस बदलाव से प्रभावित हुए बिना नहीं रहेगा। भारतीय विश्लेषकों ने यह बात साफ-साफ कही थी और जो सही भी है कि भारत के लिए जॉन मैक्केन का जीतना ज्यादा जरूरी था, बनिस्बत ओबामा के। क्योंकि आर्थिक नीति और पाकिस्तान के मामले में मैक्केन की नीति भारत समर्थक थी। लेकिन अगर समूची दुनिया में चल रही अमेरिकी दादागीरी के संदर्भ में इस जीत का विश्लेषण किया जाए तो ओबामा की जीत बहुत जरूरी थी। बुश की करनी की वजह से दुनिया में जो राजनीतिक संतुलन बदला, खासकर दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों को जो संकट झेलना पड़ रहा है, वह बुश की ही देन है। हम बात ईरान-इराक की न करते हुए सीधे फिलिस्तीन की करते हैं, जहां इस्राइल अमेरिका के साथ मिलकर खून की होली खेल रहा है और गाजा पट्टी में बच्चों को टैंकों के नीचे कुचला जा रहा है। फिलिस्तीन एक ऐसा मुल्क है, जहां के लोगों पर यहूदियों को थोपा जा रहा है। राजीव गांधी के प्रधानमंत्रित्वकाल तक भारत फिलिस्तीन के संघर्ष का समर्थन करता रहा लेकिन बाद में यह आवाज दबती चली गई। आज हालत यह है कि अमेरिकी दादागीरी के चलते भारत इस्राइल की दमनकारी नीतियों का विरोध भी नहीं कर पा रहा है।
इराक में जो कुछ हुआ, वह सभी के सामने है। यह ठीक है कि आप सद्दाम हुसैन की नीतियों का भले ही समर्थन न करते हों लेकिन किसी देश पर युद्ध थोपकर आप उस पर कब्जा कर लें, इससे बड़ा आतंकवाद और क्या हो सकता है। डब्ल्यू जॉर्ज बुश को अभी दो महीने व्हाइट हाउस में और रहना है। वह विदा हो जाएंगे लेकिन इराक में पड़ी अमेरिकी फौज अब तक उन जनसंहारक केमिकल शस्त्रों का पता नहीं लगा पाई, जिसकी आड़ में इराक पर कब्जा कर लिया गया। इराक में आज भी बेगुनाह अमेरिकी फौज का निशाना बन रहे हैं। अबू गरीब जेल में अमेरिकी फौज ने जो कुछ किया, उसे यहां दोहराने की जरूरत नहीं है। अमेरिकी चुनाव के दौरान वहां बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी थे जो एक समानांतर अभियान चला रहे थे जिसमें बताया जाता था कि आज इराक में कितने बेगुनाह कत्ल किए गए।
ओबामा के जीतने से यह लग रहा है कि बुश जिस तरह ईरान पर अगला युद्ध थोपने और वहां कब्जा करने की नीयत बनाए हुए थे, अब वह खतरा फिलहाल टल गया लगता है। लेकिन अमेरिका में सक्रिय यहूदी लॉबी कब क्या कर गुजरे कोई नहीं जानता। क्योंकि अमेरिका को मूलत: यहूदी लॉबी ही नियंत्रित कर रही है। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन में यहूदी मूल के अधिकारी भरे हुए हैं। इसलिए ओबामा के लिए सबसे बड़ी चुनौती यही है कि क्या वह इस्राइल नियंत्रित आतंकवाद से दुनिया को मुक्ति दिलाकर तालिबानी टाइप आतंकवाद के खिलाफ असली युद्ध छेड़ेंगे? वक्त इसका जवाब देगा।

Tuesday, November 4, 2008

एक सावधान कवि की बात


मुद्दे बहुत सारे हैं लेकिन बीच-बीच में हम लोगों को कविता और कवियों की बात भी कर लेनी चाहिए। जिन्हें कविताएं या गजलें पसंद नहीं है, उनकी संवेदनशीलता पर सवालिया निशान लग जाते हैं। खैर, यह तो एक बात थी जो मुझे कहनी थी और मैंने कही। मैं खुद कोई बहुत बड़ा या छोटा-मोटा भी कवि नहीं हूं। हां, जो पसंद आता है, पढ़ता जरूर हूं। इसी सिलसिले में मैंने पिछले दिनों इस ब्लॉग पर राही मासूम रजा की कुछ कविताएं पोस्ट की थीं जो मुझे बेहद पसंद हैं। उसी कड़ी में कैफी आजमी और सीमा गुप्ता की कविताएं भी पोस्ट कीं। लेकिन इस बार मैं जिस कवि के बारे में आपसे बात कर रहा हूं
उनका नाम मनमोहन है। उनके बारे में आपको साहित्यिक पत्रिकाओं में ज्यादा पढ़ने को नहीं मिलेगा, खुद मैंने भी उनको बहुत ज्यादा नहीं पढ़ा है और पहली बार अपने ही एक साथी धीरेश सैनी से उनका नाम सुना।
धीरेश की धुन बजी और उन्होंने मनमोहन की कई कविताएं मुझे सुनाईं। फिर एक दिन धीरेश के जरिए धीरेश के मोबाइल पर उनसे बात भी की। हिंदी साहित्य में जब खेमेबाजी और आरोपबाजी अपने चरम पर है, ऐसे मनमोहन जैसा कवि खुद को आत्मप्रचार से बचाए हुए है, हैरत होती है। हिंदी साहित्य की पत्रिकाएं चलाने वाले और खेमबाजी को हवा देने वालों को मनमोहन जैसों के रचना संसार को जानने की फुरसत नहीं है। अभी जब मैंने धीरेश के ब्लॉग पर मनमोहन के बारे में असद जैदी की टिप्पणी देखी और कुछ कविताएं भी पढ़ीं तो मन हुआ कि क्यों न हमसे जुड़े लोग और सभी ब्लॉगर्स मनमोहन के बारे में जानें। असद जैदी साहब ने अपनी टिप्पणी में मनमोहन को सावधान कवि बताया है। आप खुद ही पढ़कर जानें कि वह मनमोहन को सावधान कवि क्यों बता रहे हैं। कवि और सावधान, आप शायद चौंके लेकिन असद जैदी का जो आकलन है, मनमोहन की कविताएं पढ़कर ही आप जान सकते हैं। तो फिर जाइए धीरेश की जिद्दी धुन पर झूमिए और पढ़िए मनमोहन को। लिंक यहां है... http://ek-ziddi-dhun.blogspot.com/

Monday, November 3, 2008

जामिया...आइए कुतर्क करें


जामिया यूनिवर्सिटी पर वाले नीचे के लेख पर यहां-वहां की गई टिप्पणियां आप लोगों ने देख ली होंगी। टिप्पणी करने वालों ने आपस में भी बहस कर डाली। खैर, कुछ लोगों ने सामने न आने की कसम खा रखी है और वे अब ईमेल के जरिए अपनी बात लिखकर भेज रहे हैं। इनमें कुतर्क करने वालों की तादाद ज्यादा है और संजीदा बात करने वालों की बात कम है।
कुतर्क करने वालों का कहना है कि इस यूनिवर्सिटी को आतंकवाद फैलाने के लिए ही बनाया गया है। इसके पक्ष में सिर्फ और सिर्फ उनके पास बटला हाऊस एनकाउंटर जैसी घटना बताने के लिए है। इन लोगों का कहना है कि पुलिस कभी भी आतंकवादी के नाम पर झूठा एनकाउंटर नहीं करती। इसलिए दिल्ली पुलिस अपनी जगह सही है।
बहरहाल, इन बातों को आप अपनी कसौटी पर रखकर देखें। मुझे इस मामले में सिर्फ इतना कहना है कि जामिया यूनिवर्सिटी सभी की है और इसका मूल स्वरूप धर्म निरपेक्ष रहा है और अब भी है। मौजूदा वीसी मुशिरूल हसन के यहां आने के बाद इस यूनिवर्सिटी ने अपनी अच्छी ही इमेज बनाई है। अगर कांग्रेस या बीजेपी या इनसे जुड़े लोगों को इस वीसी की बात पसंद नहीं है तो उसमें उस वीसी का क्या कसूर? कम से कम वह तो इन राजनीतिक दलों की सुविधा के हिसाब से नहीं चल सकते। आप लोगों में से जो लोग रौशन जी के ब्लॉग पर गए होंगे, वहां 28 अक्टूबर को की गई उनकी पोस्ट जरूर पढ़ी होगी, जिन्होंने नहीं पढ़ी, उन्हें पढ़ना चाहिए। रौशन ने मुद्दा उठाया कि जिस तरह बिहार का एक युवक हाथ में पिस्तौल लेकर एक बस में लोगों को डराता फिरा और राज ठाकरे को गोली मारने की बात कही, उसे सरेआम मार दिए जाने के बाद राजनीतिक लोग जिस तरह सक्रिय हुए और प्रधानमंत्री को पत्र तक लिखा गया। क्या वही युवक गुजरात में जाकर वहां नरेंद्र मोदी के लिए यही बात कहता और मारा जाता तो इतना हो हल्ला मचता?
कहने का मतलब यही है कि राजनीतिक दल अपनी सुविधा के हिसाब से एजेंडा तय करते हैं कि उन्हें क्या भुनाना है और क्या नहीं?
कई साल पहले दिल्ली विश्वविद्यालय के एक लेक्चरर और एक पत्रकार को भी आतंकवादी गतिविधियों के आरोप में दिल्ली पुलिस ने घसीटा था लेकिन अदालत में मामला जाने पर पुलिस को मुंह की खानी पड़ी। पत्रकार तो खैर बेदाग होकर छूटे और उस लेक्चरर के खिलाफ भी पुलिस ठोस सबूत नहीं जुटा पाई। लेकिन उस वजह से दिल्ली यूनिवर्सिटी तो आतंकवादियों का अड्डा नहीं बनी। जिस पत्रकार को पुलिस ने गिरफ्तार किया था उस पर आरोप था कि उसके लैपटॉप से देशविरोधी लेख और सूचनाएं मिली हैं। अदालत ने मामला खारिज कर दिया। अदालत ने कहा कि पत्रकार अपनी प्रोफेशनल ड्यूटी के लिए ऐसी जानकारियां रखते हैं, इसका मतलब यह नहीं कि वे आतंकवादी हैं। इसलिए जो लोग आतंकवाद को किसी धर्म विशेष या समुदाय विशेष से जोड़ रहे हैं, उनकी सोच निहायत घटिया है। जामिया यूनिवर्सिटी का नाम मुस्लिम भर होने से वह आतंकवाद का अड्डा नहीं बन सकती। सिमी जैसे विवादास्पद संगठन के जो लोग पकड़े गए हैं अगर उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) या किसी ईसाई स्कूल से पढ़ाई की है तो इसका मतलब यह कतई नहीं है कि वे जगहें आतंकवाद का सेंटर हैं। जामिया की तरह एएमयू को भी ऐसे विवाद में घसीटने की नापाक कोशिश हो चुकी है लेकिन वह सिरे नहीं चढ़ सकी क्योंकि आज एएमयू का कैरेक्टर भी वही है जो जामिया या दिल्ली विश्वविद्यालय का है। जवाहर लाल नेहरू (जेएनयू) में तमाम छात्र नेता या कतिपय संगठन माओवादियों के हमदर्द या नक्सल आंदोलन के समर्थक रहे हैं या हैं, तो क्या इस आधार पर हम लोग जेएनयू जैसे प्रख्यात शिक्षा केंद्र को नक्सलियों का अड्डा मान लें। जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में नक्सलवाद और आतंकवाद पर जितनी खुली बहस होती है, उतनी शायद ही कहीं और होती हो।
जामिया पर इस बहस को मैं अब बीच में ही खत्म कर रहा हूं। क्योंकि इस बीच कई महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा ही नहीं हो सकी। अगर जामिया पर आप लोग फिर भी टिप्पणी करना चाहते हैं तो भेज सकते हैं, बीच में किसी दिन उसे फिर से पेश किया जाएगा। अगर कोई सौरभ भारद्वाज की तरह लेख भेजना चाहे तो उसका भी स्वागत है। यकीन मानिए संपादन के बिना यहां पोस्ट किया जाएगा, हां अगर ईमेल की तरह उसमें गाली-गलौच की भाषा का इस्तेमाल होगा तो उसे पोस्ट कर पाना मुमकिन नहीं होगा। ईश्वर गुमराह लोगों को सदबुद्धि दे।

Saturday, November 1, 2008

दर्द-ए-जामिया

नोट – आज मैं आप लोगों से मुखातिब नहीं हूं। जामिया यूनिवर्सिटी की जो छवि देश-विदेश में बनाई जा रही है, उससे संबंधित और सरोकार रखने वाले सभी आहत हैं। वरिष्ठ पत्रकार सौरभ भारद्वाज जामिया के पूर्व छात्र हैं और इन दिनों नवभारत टाइम्स को अपनी सेवाएं दे रहे हैं। मेरे ब्लॉग पर नीचे वाला लेख पढ़ने के बाद उन्होंने यह प्रतिक्रिया भेजी जो मैं इस ब्लॉग पर लेख के रूप में पेश कर रहा हूं। हाजिर हैं बकलम खुद सौरभ भारद्वाज -
- सौरभ भारद्वाज
जामिया इन दिनों सुर्खियों में है और जामिया से जुड़ी मेरी यादें एकदम तरोताजा। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जहां की तहजीब में शुमार है, जहां तालीम हासिल करना किसी मुस्लिम के लिए ही नहीं बल्कि किसी हिंदू के लिए भी गर्व की बात है, ऐसे जामिया को बेशक एक-दो साल ही सही लेकिन मैंने बेहद नजदीक से देखा है। उसकी धडक़न को महसूस किया है। गालिब के बुत के अगल-बगल बिताए गए घंटों और अपने अनुभवों के आधार पर मैं कह सकता हूं कि पिछले लगभग 5-6 हफ्तों में इस यूनिवर्सिटी की जो राष्ट्र विरोधी इमेज गढ़ दी गई है, यह यूनिवर्सिटी वैसी नहीं है।
सात-आठ साल ही बीते हैं जब मैं जामिया के हिंदी विभाग में मास मीडिया का छात्र होता था। जामिया की एक अजीब कशिश थी कि शाम की क्लास के लिए हम सवेरे से ही घर से निकल जाते, लाइब्रेरी और लाइब्रेरी के बगल में चाय के खोखे पर घंटों बतियाते। कारगिल वॉर ताजा-ताजा हुई थी, उस दौरान चाहे मसला बेशक पाकिस्तान का होता या फिर एमएफ हुसैन की स्वतंत्रता का मैं, रईस, आबगीना, मनीष, गायत्री, संजय, उपेंद्र, रेशमा, नसीम, अशरफ हम हमेशा बेलाग अपनी बात कहते। हम पत्रकारिता के नए मुल्ले खुद को बुद्धिजीवी साबित करने के लिए अपनी सहमतियों-असहमतियों को हमेशा स्पष्टï शब्दों में दर्शाते। लेकिन कभी ऐसा नहीं हुआ किहमारी स्पष्टï अभिव्यक्तियों के बावजूद हमारे बीच कोई खटास पैदा हुई हो। अपने साथियों और अपने गुरुजी लोगों के साथ आज भी अपने संबंध उतने ही ताजा हैं, जितने सात-आठ बरस पहले थे। मोबाइल पर आने वाली दीवाली या होली की सबसे पहली बधाई डॉ. फुरकान अहमद या महताब मैडम की होती है। अपनी भी कोशिश होती है कि ईद पर उन्हें मुबारकबाद देकर उनका आशीर्वाद ले लिया जाए। रईस, आबगीना और रेशमा अब भी मेरे उतने ही नजदीकहैं जितने की उपेंद्र और मनीष। ऐसे में मुशिरूल हसन साहब का बयान मुझे भीतर तक झंकझोर गया है। जामिया पर उछाला गया कोई भी कीचड़ मुझे अपने अतीत को कलंकित करने का षडयंत्र नजर आता है। इतने बड़े पद पर बैठे किसी शख्स को ऐसा बोलना पड़ा है तो समझा जा सकता है उन शब्दों के पीछे छिपे उनके दर्द को, उनकी पीड़ा को।
मुझे अच्छी तरह याद है उस साल यूथ पार्लियामेंट के दौरान मंच पर तीन लोग प्रमुख भूमिकाओं में थे। सुनीता मेनन स्पीकर, सौरभ भारद्वाज- प्रधानमंत्री और मनीष कुमार ठाकुर- नेता विपक्ष। किसी ने शायद आयोजकों को इसपर छेड़ा होगा। आयोजकों का जवाब उनके मुंह पर ताले लगाने के लिए काफी था- सही पद पर सही व्यक्ति को चुनने के लिए धर्म पैमाना नहीं था। डॉ.असगर वजाहत के मुंह से निकले शब्द जितने मुस्लिम छात्रों के काम आए मुझे लगता है कि उससे कहीं ज्यादा हिंदू छात्रों ने उन शब्दों से सीखा है। विद्या के उस मंदिर को आतंकवादियों का अड्डा बताने की जो कोशिश इन दिनों चल रही है वह निश्चित रूप से जामिया के लिए घातक है, साथ ही उन लोगों के लिए भी जो जामिया के स्टूडेंट रहे हैं।
जामिया के इसी सेक्यूलर रूप ने जामिया के छात्रों को देश-दुनिया में अलग पहचान दिलाई है। निश्चित रूप से जामिया की वह पहचान कायम रहनी चाहिए। डॉ. अब्दुल बिस्मिल्लाह की उन पंक्तियों को मैं अब भी नहीं भूल पाता
गली-गली में कील गड़े हैं आंगन-आंगन कांच
अपने जोखिम पर है नटवर नाच सके तो नाच

मुशिरूल हसन साहब के इस दर्द पर जामिया के दिनों के ही अपने सखा रामाज्ञा राय शशिधर की वो पंक्तियां याद आती हैं-
कुछ तो ठेस लगी है तब तो आह लबों तक आई है,
यूं ही झन से बोल उठना यह शीशे का दस्तूर नहीं